पंजाब में किसानों का रेल रोको आंदोलन खत्म, रेलवे जल्द बहाल करेगा ट्रेन सेवाएं

 

नई दिल्ली 21 नवम्बर। पंजाब के किसानों ने 23 नवम्बर से पूरी तरह से मालगाड़ी और यात्री ट्रेनों को चलाने पर अपनी सहमति दे दी है। राज्य सरकार ने इस संबंध में रेल मंत्रालय को सूचित कर दिया है। वहीं रेलवे ने कहा है कि वह जल्द से जल्द रेल सेवाओं की बहाली के लिए कदम उठाएगा।

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के विरोध में 24 सितम्बर से आंदोलन कर रहे किसानों के प्रतिनिधिमंडल ने आज मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के साथ बैठक में यात्री ट्रेनों की आवाजाही की अनुमति देने का फैसला लिया है। आंदोलन के कारण 24 सितम्बर से राज्य में यात्री ट्रेन का परिचालन बंद हैं। 29 सितम्बर तक मालगाड़ियों का परिचालन हुआ। पंजाब में किसानों के आंदोलन के कारण रेलवे को अब तक 2,220 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है।

रेल मंत्रालय ने शनिवार को ट्वीट कर कहा कि पंजाब सरकार ने रेलवे को मालगाड़ी और यात्री ट्रेन दोनों की बहाली के लिए आग्रह किया है। यह सूचित किया गया है कि ट्रेन संचालन के लिए ट्रैक अब पूरी तरह खाली हैं।

उल्लेखनीय है कि किसान रेल पटरियों पर धरना दे रहे थे। रेलवे ने कहा कि रेलवे आवश्यक रखरखाव जांच करने और अन्य निर्धारित प्रोटोकॉल को पूरा करने के बाद जल्द से जल्द पंजाब में ट्रेन सेवाओं की बहाली की दिशा में कदम उठाएगा।

रेल बोर्ड के अध्यक्ष व सीईओ विनोद कुमार यादव ने 6 नवम्बर को कहा था कि पंजाब में 31 स्थानों पर किसान आंदोलन के कारण रेल पटरियों पर रुकावटें थी। इनमें से 9 स्थानों से अवरोध (किसानों का धरना) हट गया है। इन सभी नौ स्थानों पर रेलवे ने मरम्मत का काम तेजी के साथ शुरू कर दिया है। शेष 22 स्थानों पर अब भी अवरोध है। उन्होंने कहा कि रेलवे सभी रेलगाड़ियां एक साथ शुरू करना चाहता है इसके लिए उसे राज्य सरकार से यात्री ट्रेन, मालगाड़ी और तेल, कोल जैसे कमोडिटी की सभी रेलगाड़ियों की सुरक्षा गारंटी चाहता है।

From around the web