बुलंदशहर में रिश्वत मांगने वाला दरोगा निलंबित, समझौता कराने पर मांगे थे, दो को किया लाइन हाज़िर

 

बुलंदशहर - उत्तर प्रदेश में बुलंदशहर के आहार क्षेत्र में तैनात एक दरोगा को रिश्वत मांगने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह ने शनिवार को बताया कि थाना अहार पर तैनात उपनिरीक्षक अनिल सिंह ने दो पक्षों में समझौता कराया था। समझौते के दौरान एक पक्ष के लोगों ने दूसरे पक्ष के लोगों 2.5 लाख रुपए देने थे। इस दौरान कानूनी प्रक्रिया पूरी होने तक उक्त धनराशि का चेक पार्टी ने दरोगा के पास ही जमा करा दिए थे।

आरोप है कि दरोगा ने समझौता कराने की एवज में पचास हजार रुपए की मांग की थी जिस पर धनराशि देने वाले पक्ष ने बीस हजार रूपए देने की दरोगा से रजामंदी जाहिर की थी। दरोगा के अधिक दबाव बनाने पर पीड़ित पक्ष के लोगों ने रिश्वत मांगने की साउंड रिकॉर्डिंग एसएसपी बुलंदशहर के मोबाईल पर डाल दी थी। रिकॉर्डिंग सही प्रतीत होने पर एसएमपी ने उसे निलंबित कर दिया है।

उधर, थाना कोतवाली नगर के डिप्टीगंज चौकी इंचार्ज प्रमोद गौतम को अनुशासनहीन आचरण एवं आमजन में खराब छवि के चलते तत्काल प्रभाव से लाइन हाजिर कर दिया गया है जबकि ककोड़ के झाझर चौकी इंचार्ज रामेश्वर दयाल शर्मा को अपराध नियंत्रण में पूर्णतः विफल रहने तथा आमजन में खराब छवि के चलते वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बुलंदशहर ने तत्काल प्रभाव से लाइन हाजिर कर दिया गया है।

From around the web