उदयपुर में एक ही परिवार के छह सदस्यों की मौत का कारण बनी आर्थिक तंगी

 
म

उदयपुर। उदयपुर जिले के गोगुंदा क्षेत्र के झाड़ोली गांव के पास गोल नेड़ी में एक परिवार के छह लोगों के शव मिले हैं। पिता और उसके तीन मासूम बेटे फंदे पर लटके मिले जबकि उसकी पत्नी और चार महीने के मासूम बेटे का शव बिस्तर पर पड़ा था। प्रारंभिक जांच के बाद पुलिस का कहना है कि परिवार के मुखिया ने पहले पत्नी और बच्चों की हत्या की और बाद में उसने भी आत्महत्या कर ली। पूरे परिवार की मौत के पीछे आर्थिक तंगी और बीमारी का कारण सामने आ रहा है।

गोल नेड़ी- झाड़ोली गांव में सोमवार सुबह प्रकाश (40) पुत्र सोहन लाल, उसकी पत्नी दुर्गा (35), उनके चार बेटे गणेश (5), पुष्कर (4), रोशन (2) के अलावा चार महीने के अबोध बालक गंगाराम के शव घर के अन्दर मिले। समीप ही रहने वाले प्रकाश के छोटे भाई दुर्गाराम को जब प्रकाश, उसकी पत्नी और बच्चे दिखाई नहीं दिए तो वह उसके घर पहुंचा। घर में प्रकाश के साथ तीन भतीजे गणेश, पुष्कर और रोशन के शव फंदे पर लटके देखे, वहीं भाभी दुर्गा तथा सबसे छोटा चार महीने का मासूम भतीजा बिस्तर पर मृत पड़ा था। कुछ समय बाद ही सूचना मिलने पर गोगुंदा थाना पुलिस मौके पर पहुंची।

थानाधिकारी योगेन्द्र व्यास ने बताया कि प्रकाश के अलावा गणेश, पुष्कर तथा रोशन के शव उसकी मां की ओढ़नियों से बनाए फंदे पर लटके हुए थे, जबकि दुर्गा का शव उसके चार माह के मासूम के साथ बिस्तर पर पड़ा था। अनुमान है कि प्रकाश ने पहले पत्नी और मासूम बच्चों की गला घोंटकर हत्या की और बाद में खुद भी फंदे पर झूल गया। प्रारंभिक जांच से पता चला कि तीन महीने पहले ही प्रकाश सूरत से लौटा था। वह सूरत में साफ-सफाई का काम करता था। नवरात्रि में वह वहां से लौटा था, लेकिन बीमारी के चलते काम पर नहीं लौटा।

इस मामले में पुलिस ने प्रकाश के छोटे भाई दुर्गाराम से पूछताछ की है। उसने बताया कि खेत में पास-पास बने घर में तीन भाई रहते हैं। उसकी प्रकाश से बहुत कम बात होती थी, लेकिन बच्चे घर आते थे। छोटे भाई दुर्गाराम के मुताबिक प्रकाश कुछ समय से बीमार था और दो बार उसे टाइफाइड हो चुका था। इसके चलते उसकी आर्थिक स्थिति बिगड़ चुकी थी।

उदयपुर के पुलिस अधीक्षक विकास शर्मा का कहना है कि एफएसएल टीम के अलावा डॉग स्क्वॉयड की टीम भी उदयपुर से पहुंची। एफएसएफ की टीम ने मौके से साक्ष्य जुटाए। जांच के दौरान डॉग केवल उसके घर में दस फीट का चक्कर लगाता रहा। इससे पुलिस का अनुमान है कि इस कांड में किसी बाहरी व्यक्ति या अपराधी का हाथ नहीं है। प्रकाश के परिवार वालों की मौत का कारण पोस्टमार्टम से लग पाएगा। गोगुंदा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर शवों के पोस्टमार्टम कराए गए हैं। मंगलवार तक रिपोर्ट मिल पाएगी।

From around the web