देश में गेहूं का पर्याप्त भंडार, जमाखोरों पर कार्रवाई करेगी सरकार: खाद्य सचिव

 
देश में गेहूं का पर्याप्त भंडार, जमाखोरों पर कार्रवाई करेगी सरकार: खाद्य सचिव
नई दिल्ली। गेहूं की बढ़ती कीमतों के बीच सरकार ने कहा है कि देश में गेहूं का पर्याप्त भंडार मौजूद है। अगर जरूरत पड़ी तो जमाखोरों के खिलाफ कार्रवाई करेगी, ताकि घरेलू आपूर्ति को बढ़ाया जा सके। व्यापारियों पर गेहूं के स्टॉक का खुलासा करने और घरेलू उपलब्धता बढ़ाने के लिए स्टॉक सीमा तय करने जैसे कदमों पर सरकार विचार कर सकती है, ताकि देश में गेहूं की पर्याप्त सप्लाई बनी रहे।

खाद्य सचिव सुधांशु पाण्डेय ने सोमवार को रोलर फ्लोर मिलर्स फेडरेशन ऑफ इंडिया की 82वीं वार्षिक आम बैठक (एजीएम) को संबोधित करते हुए कहा कि देश में गेहूं की कोई कमी नहीं है। घरेलू जरूरतों के लिहाज से गेहूं का पर्याप्त भंडार हमारे पास उपलब्ध है। सरकार के पास सरकारी स्वामित्व वाले भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) के गोदामों में 2.4 करोड़ टन गेहूं मौजूद है। खाद्य सचिव ने कहा कि ‘सट्टेबाजी’ के कारण गेहूं की कीमतों में तेजी आई है।

सुधांशु पाण्डेय ने कहा कि फसल वर्ष 2021-22 (जुलाई-जून) के रबी सत्र में गेहूं का उत्पादन करीब 105 मिलियन टन होने का अनुमान है, जबकि व्यापार जगत का अनुमान 95-98 मिलियन टन का ही है। खाद्य सचिव ने बताया कि चालू वित्त वर्ष में अबतक 45 लाख टन गेहूं का निर्यात किया गया है। इसमें से 21 लाख टन निर्यात 13 मई को गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने से पहले किया गया था। पिछले वित्त वर्ष में भारत ने 72 लाख टन गेहूं का निर्यात किया था।
 

From around the web