सीएम योगी ने बटन दबाकर 315 करोड़ की धनराशि भेजी

 
बब

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पाने वाले लाभार्थियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संवाद किया। इस दौरान उन्होंने 1.51 लाख स्वयं सहायता समूहों को तथा 11 हजार बीसी सखियों को कुल 315 करोड़ की धनराशि का डिजिटल माध्यम से अंतरित की।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि 1947 में भारत को स्वतंत्रता मिली थी लेकिन वास्तविक रूप से 2014 के बाद से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकारी योजनाओं का लाभ समाज की अंतिम पंक्ति में खड़े लोगों को मिल रहा है। यह बदलाव हर कोई महसूस कर रहा है। आज गरीबों को बिना उनकी जाति व धर्म देखे सरकारी योजनाओं का लाभ दिया जा रहा है। गरीबों को बैंक अकाउंट से जोड़ उन्हें शासन की योजनाओं का सीधा लाभ दिया जा रहा है।

मुख्यमंत्री योगी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पीएम नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में शिमला में आयोजित ‘गरीब कल्याण सम्मेलन’ में भाग ले रहे थे। इस दौरान उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और ब्रजेश पाठक समेत अन्य लोग मौजूद थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र के आठ वर्ष का सफलतापूर्वक कार्यकाल पूरा होने पर मुख्यमंत्री ने बधाई देते हुए कहा कि आठ साल में देश में व्यापक परिवर्तन हुए। देश ने वैश्विक स्तर पर पहचान बनाई और शासन की हर योजनाओं को हर गांव, हर गरीब तक पहुंचाया गया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश ही एक ऐसा राज्य है जहां हर गांव में बीसी सखी के माध्यम से सुविधा मिल रही है। हर घर बैंकिंग का कार्य बीसी सखी कर रही हैं। यही वास्तविक बदलाव है। आज प्रदेश का हर व्यक्ति बैंकिंग सेवा का लाभ उठा रहा है।

सबका साथ- सबका विकास का नारा हो रहा फलीभूत

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने 2013-14 में ‘सबका साथ,सबका विकास’ का नारा दिया था जो आज के समय में पूरा होता दिखाई पड़ रहा है। पिछले आठ वर्ष में देश में तीन करोड़ से अधिक परिवारों को मकान मिला। अकेले उत्तर प्रदेश में साढ़े 43 लाख गरीबों को मकान दिया गया। मुख्यमंत्री ने बताया कि पीएम आवास योजना के तहत ग्रामीण इलाकों में मकान बनाने के लिए एक लाख बीस हजार तथा शहरी क्षेत्र में ढाई लाख रुपये की सहायता दी जाती है। शहरी क्षेत्र में योजना का लाभ देने के लिए मानकों में भी ढील दी गई है। उन्होंने आगे बताया कि 2011-12 के सर्वे में जिन गरीबों के नाम छूट गए थे, उन्हें हमने मुख्यमंत्री आवास योजना से जोड़ा। इससे वनटांगिया, मुसहर जैसी जातियों को भी योजना का लाभ दिया जा सका।

शौचालयों के निर्माण के बारे में जानकारी देते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि देश में 11 करोड़ से ज्यादा परिवारों को शौचालय दिया गया। वहीं उत्तर प्रदेश में दो करोड़ 61 लाख को इसका लाभ मिला। साथ ही हर ग्रामसभा में सामुदायिक शौचालयों का निर्माण हुआ और साथ ही महिलाओं को इससे सम्मान भी दिया गया। इन शौचालयों को इज़्ज़त घर का नाम दिया गया। इसकी सराहना प्रधानमंत्री ने भी की। इन इज़्ज़त घरों ने नारी गरिमा की रक्षा भी की।

यूपी के एक करोड़ 67 लाख लोगों को उज्ज्वला योजना का लाभ

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में एक करोड़ 67 लाख लोगों को उज्ज्वला योजना से जोड़ा गया। देश में 2014 के पहले गैस सिलेंडर मिलने के लिए लोगों को पुलिस के डंडे खाने पड़े थे। लेकिन अब यह गैस सिलेंडर मुफ्त दिए जा रहे हैं। यहां तक कि अब तो वर्ष में दो सिलेंडर मुफ्त भी देने जा रहे हैं। इस दिवाली से इसकी शुरुआत होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में पर्याप्त भू- संसाधन थे। इसके बावजूद गरीबों को पेयजल के लिए प्रताड़ित किया जाता था। प्रधानमंत्री के परिकल्पना से अब हर घर नल योजनांतर्गत शुद्ध आरओ का पानी देने जा रहे हैं। शहरी क्षेत्र में ये अमृत योजना के माध्यम से हो रहा है। मुख्यमंत्री ने पीएम स्वनिधि योजना द्वारा दिए जा रहे लाभों के बारे में बताते हुए कहा कि ये योजना लोगों को आत्मनिर्भर और स्वावलंबी बनाने में सहायक साबित हो रही है।

कोरोना काल में कोई भूखा नहीं रहा

उन्होंने यह भी बताया कि ‘वन नेशन वन राशन कार्ड’ और प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के माध्यम से कोरोना काल के दौरान कोई नागरिक भूखे पेट नहीं सोया। योजनाओं का लाभ बिना किसी भेदभाव के सभी को मिलने के लिए हम कृत संकल्पित हैं। इसी कड़ी में आज पीएम किसान सम्मान निधि की ग्यारहवीं किश्त का लाभ भी मिलने जा रहा है। केंद्र व राज्य सरकार शासन की योजनाओं का लाभ आप तक पहुचाने के लिए तत्पर है।

लाभार्थियों से किया संवाद

मुख्यमंत्री ने सुल्तानपुर की बीसी सखी प्रियंका मौर्या, बहराइच की गुड़िया, मथुरा के ईलू शर्मा, उन्नान की गुड़िया, सुल्तानपुर की सरोजा देवी, इटावा की पूनम और कुसुम से बात की। उन्होंने उन्नाव के नवाबगंज ब्लाॅक के रायपुर खैलामऊ की गुड़िया से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वर्चुअल संवाद किया।

बेटियों को कन्या सुमंगला योजनाओं से जोड़ने की अपील

सुल्तानपुर की बीसी सखी प्रियंका मौर्या से मुख्यमंत्री ने बात की तो प्रियंका ने बाताया कि उनकी प्रति माह आय करीब 26 हजार रुपये है। उन्होंने अपना सेंटर भी खोला हुआ है। मुख्यमंत्री ने उनकी सराहना करते हुए कहा आप लोग जो काम कर रही हैं, वह समाज की बाकी महिलाओं के लिए एक उदाहरण है।

From around the web