बेंगलुरु में राकेश टिकैत के मुंह पर फेंकी गई स्याही, जमकर चली कुर्सियां

 
 म

 बेंगलुरु, | किसान नेता राकेश टिकैत पर सोमवार को बेंगलुरु के गांधी भवन में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान काली पेंट फेंकी गई। पुलिस ने मौके से तीन हमलावरों को गिरफ्तार किया है।

यह हमला उस समय हुआ जब टिकैत कर्नाटक राज्य किसान संघ और हसीरू सेने द्वारा आयोजित 'रायता चालुवली, आत्मवलोकन हागू स्पस्तीकरण सभा (किसान आंदोलन, आत्मनिरीक्षण और स्पष्टीकरण बैठक)' पर एक संवाददाता सम्मेलन में भाग ले रहे थे।

टिकैत किसान नेता कोडिहल्ली चंद्रशेखर के खिलाफ हाल के आरोपों को स्पष्ट कर रहे थे।

तीन आदमी अचानक प्लेटफार्म पर चढ़ गए और राकेश टिकैत पर काला पेंट फेंक दिया। एक अन्य किसान नेता युद्धवीर सिंह पर भी काला रंग फेंका गया।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि राकेश टिकैत के सिर पर चोट आई है। प्रेस कांफ्रेंस में मौजूद किसान नेताओं व कार्यकर्ताओं ने बदमाशों को घसीटकर पीटा। मौके पर पहुंची स्थानीय पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया।

राकेश टिकैत को बचाने में कर्नाटक पुलिस की नाकामी पर किसान नेताओं ने रोष जताया है। उन्होंने दावा किया कि पुलिस को खतरे की आशंका के बारे में बताया गया था, लेकिन उन्होंने आंखें मूंद लीं।

आपको बता दें कि स्याही फेंकने वाले व्यक्ति की अभी पहचान नही हो पाई है लेकिन बताया जा रहा है कि ये स्याही स्थानीय किसान नेता के चंद्रशेखर के समर्थकों ने फेंकी है। यहां स्थानीय मीडिया ने हाल ही में के चंद्रशेखर को लेकर स्टिंग किया था। इस वीडियो में चंद्रशेखर ने बस स्ट्राइक के बदले पैसे की मांग की थी। इतना ही नहीं उसने राकेश टिकैत और अन्य किसान नेताओं का भी जिक्र किया था।

इस मामले में किसान सभा के अध्यक्ष अवनीश पवार ने कहा- जो भी हुआ उसकी जांच होनी चाहिए। किसान यूनियन के महासचिव सावित मलिक ने कहा-किसानों पर तो लाठीचार्ज तक हुआ है, हम स्याही से डरने वाले नहीं हैं।

From around the web