उपवास में बनाए रखें एनर्जी लेवल

- खुंजरि देवांगन
 
उपवास में बनाए रखें एनर्जी लेवल

कोई न कोई व्रत तो हर आदमी रखता है और कुछ लोग इस दौरान फलाहार भी नहीं करते लेकिन हमारे शरीर की भी कुछ आवश्यकताएं होती हैं और उसे सुचारू रूप से काम करने के लिए ऊर्जा या एनर्जी की जरूरत होती है जो शरीर को भोजन से ही मिलती है।

सुचारू रूप से ऊर्जा न मिलने पर कुछ अनियमिताएं मसलन चक्कर आना, जी मिचलाना, कमजोरी, कब्ज, एसिडिटी जैसी शिकायतें होने लगती हैं जो उपवास के दौरान आम हैं। एक दिन के उपवास में तो यह शिकायतें या तो होती नहीं है या फिर अगले दिन शरीर सामान्य भी हो जाता है लेकिन नवरात्रि जैसे लंबे चलने वाले उपवासों के दौरान स्थिति गंभीर भी हो सकती है। कुछ बातें हैं जिन्हें अपनाकर आप श्रद्धा के साथ अपना व्रत भी पूरा कर सकते हैं और इन परेशानियों से भी बच सकते हैं।

खान-पान: अगर व्रत के दौरान फलाहार कर रहे हैं तो दिन में एक ही बार बैठकर ढेर सारे फल खाने की बजाय पांच-छह बार फल खाएं। इससे रक्त में शर्करा स्तर स्थिर रहेगा और शरीर को ऊर्जा मिलती रहेगी। अगर आप व्रत के दौरान चाय-कॉफी भी लेते हैं तो सुबह की चाय जरूर लें क्योंकि ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी में किए गए शोधों से पता चला है कि जो लोग रोज सुबह की चाय या कॉफी पीने के आदी हैं, उन्हें सबसे ज्यादा फायदा सुबह की चाय का कॉफी से ही होता है। बाकी दिन भर पी जाने वाली चाय या कॉफी फायदेमंद साबित नहीं होती। अगर ये लोग सुबह चाय नहीं पी पाते तो दिनभर कमजोरी और थकान बनी रहती है।

गहरी सांस लें: शरीर में ऑक्सीजन अगर ठीक तरह से नहीं पहुंचे तो शरीर का ऊर्जा स्तर आश्चर्यजनक रूप से कम हो जाता है, इसलिए व्रत के दौरान खासतौर पर तीस सेकंड बैठकर गहरी-गहरी सांस लें। तीन गिनने तक नाक से सांस अंदर खींचें (कोशिश करें कि पेट तक सांस लें न कि केवल सीने तक) और छह गिनने तक धीरे-धीरे सांस छोडें।

कसरत करें: थोड़ी-सी स्ट्रेचिंग आपका ऊर्जा स्तर ठीक बनाए रखने में बहुत ज्यादा मददगार साबित हो सकती है। इससे आपकी मांसपेशियां रिलैक्स होती हैं और रक्त का संचरण ज्यादा होता है जो आपको अतिरिक्त ऊर्जा भी देता है।
कसरत के दौरान गहरी सांस लेने की जरूरत पड़ती है जिससे शरीर को ज्यादा ऑक्सीजन मिलती है जिससे ऊर्जा भी अपने आप ज्यादा मिलती है।

ज्यादा पानी पिएं: पुरूष के शरीर का 60 प्रतिशत और महिला के शरीर का 5० प्रतिशत वजन पानी के कारण होता है। पानी शरीर के तापमान और ऊर्जा स्तर को नियंत्रित रखता है। इसकी कमी से शरीर का 9-12 प्रतिशत वजन घट सकता है जिसके कारण कमजोरी हो सकती है। इसलिए व्रत के दौरान ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं जिससे ऊर्जा स्तर सामान्य बना रहे।

कुछ प्रैक्टिकल टिप्स:
- प्यास लगने से पहले पानी पिएं। कम से कम 10-12 गिलास पानी पिएं।
- पानी में अगर आप नींबू का रस व शक्कर मिलाकर पी सकें तो ज्यादा बेहतर है। यह घोल आपको ज्यादा ऊर्जा भी देगा।
- दिन में तीन-चार बार एक चम्मच शहद भी खा सकते हैं।
- सूखे फलों की बजाय रसीले फल लें मसलन, पपीता, संतरा, अंगूर।
- अगर एक समय खाना खा रहे हों, तो ज्यादा मिर्च-मसाले वाला तला-भुना खाना न खाएं बल्कि सादा सात्विक भोजन ही लें।

From around the web