मीडिया भय और भ्रम का वातावरण बनाने से बचे: अनुराग ठाकुर

 
जयपुर, 23 नवम्बर (हि.स.)। केन्द्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने स्थानीय समाचार पत्र महानगर टाइम्स के रजत जयन्ती समारोह में कहा कि भारत के स्वतंत्रता संग्राम से ही समाचारपत्रों का विशेष महत्व रहा है। उन्होंने कहा कि पहले समाचारों का एक तरफा संचार हुआ करता था, इलैक्ट्रोनिक और डिजिटल मीडिया के विकास से समाचारों का संचार बहुआयामी हो गया है, अब किसी एक गांव की छोटी सी खबर भी डिजिटल मीडिया के माध्यम से राष्ट्रीय पटल तक आ जाती है, पर डिजिटल मीडिया आज के युग में अवसरों के साथ-साथ चुनौतियां भी पेश करता है। यह भी इलैक्ट्रोनिक मीडिया की तरह स्व नियामक है। उन्होंने कहा कि इसके नियमन की आवश्यकता है। इसलिए केन्द्र सरकार इस पर जल्द ही कानून लाएगी।  केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि केन्द्र सरकार ईज़ ऑफ डुइंग बिज़िनेस और ईज़ ऑफ लिविंग की दिशा में काम कर रही है। कम्पनियों के पंजीकरण की बात हो या आम नागरिक द्वारा बैंक खाता खोलने की प्रक्रिया हो, सभी को बहुत आसान कर दिया गया है। श्री ठाकुर ने आगे कहा कि समाचार पत्रों के पंजीकरण की प्रक्रिया को सरल बनाया जाएगा। केन्द्र सरकार जल्द ही 1867 के कानून के स्थान पर एक नया कानून लाएगी। इसके तहत पंजीकरण प्रक्रिया, जिसमें अब लगभग चार महीने लगते हैं, उसे ऑनलाइन माध्यम से एक हफ्ते में पूरा करना संभव हो सकेगा।  ठाकुर ने कहा कि समाचार पत्र सही खबर को सही समय पर आम जनता के सामने लेकर आएं। उन्होंने कहा कि सरकार की कमियों के साथ-साथ सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं और नीतियों को आमजन तक पहुंचाएं। उन्होंने आग्रह किया कि मीडिया अपना कार्य जिम्मेदारी से करे और भय और भ्रम का वातावरण बनाने से बचें, जैसा कि कोरोना काल के दौरान हुआ था। केन्द्र सरकार पत्रकारोें के हितों का भी ध्यान रखती है। कोविड महामारी के दौरान जिन पत्रकारों की कोविड से मृत्यु हुई उनके परिजनों को केन्द्र सरकार की और से आर्थिक सहायता प्रदान की गई। इसके अलावा अब केन्द्र सरकार ने डिजिटल मीडिया के पत्रकारों को भी अधिस्वीकृत करने का कार्य शुरु किया है।  इस कार्यक्रम में राज्यपाल कलराज मिश्र, विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी, अन्य जनप्रतिनिधि और विशिष्ट गणमान्य लोग मौजूद रहे।
जयपुर। केन्द्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने स्थानीय समाचार पत्र महानगर टाइम्स के रजत जयन्ती समारोह में कहा कि भारत के स्वतंत्रता संग्राम से ही समाचारपत्रों का विशेष महत्व रहा है। उन्होंने कहा कि पहले समाचारों का एक तरफा संचार हुआ करता था, इलैक्ट्रोनिक और डिजिटल मीडिया के विकास से समाचारों का संचार बहुआयामी हो गया है, अब किसी एक गांव की छोटी सी खबर भी डिजिटल मीडिया के माध्यम से राष्ट्रीय पटल तक आ जाती है, पर डिजिटल मीडिया आज के युग में अवसरों के साथ-साथ चुनौतियां भी पेश करता है। यह भी इलैक्ट्रोनिक मीडिया की तरह स्व नियामक है। उन्होंने कहा कि इसके नियमन की आवश्यकता है। इसलिए केन्द्र सरकार इस पर जल्द ही कानून लाएगी।

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि केन्द्र सरकार ईज़ ऑफ डुइंग बिज़िनेस और ईज़ ऑफ लिविंग की दिशा में काम कर रही है। कम्पनियों के पंजीकरण की बात हो या आम नागरिक द्वारा बैंक खाता खोलने की प्रक्रिया हो, सभी को बहुत आसान कर दिया गया है। श्री ठाकुर ने आगे कहा कि समाचार पत्रों के पंजीकरण की प्रक्रिया को सरल बनाया जाएगा। केन्द्र सरकार जल्द ही 1867 के कानून के स्थान पर एक नया कानून लाएगी। इसके तहत पंजीकरण प्रक्रिया, जिसमें अब लगभग चार महीने लगते हैं, उसे ऑनलाइन माध्यम से एक हफ्ते में पूरा करना संभव हो सकेगा।

ठाकुर ने कहा कि समाचार पत्र सही खबर को सही समय पर आम जनता के सामने लेकर आएं। उन्होंने कहा कि सरकार की कमियों के साथ-साथ सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं और नीतियों को आमजन तक पहुंचाएं। उन्होंने आग्रह किया कि मीडिया अपना कार्य जिम्मेदारी से करे और भय और भ्रम का वातावरण बनाने से बचें, जैसा कि कोरोना काल के दौरान हुआ था। केन्द्र सरकार पत्रकारोें के हितों का भी ध्यान रखती है। कोविड महामारी के दौरान जिन पत्रकारों की कोविड से मृत्यु हुई उनके परिजनों को केन्द्र सरकार की और से आर्थिक सहायता प्रदान की गई। इसके अलावा अब केन्द्र सरकार ने डिजिटल मीडिया के पत्रकारों को भी अधिस्वीकृत करने का कार्य शुरु किया है।

इस कार्यक्रम में राज्यपाल कलराज मिश्र, विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी, अन्य जनप्रतिनिधि और विशिष्ट गणमान्य लोग मौजूद रहे।

From around the web