पेप्सिको बॉटलिंग प्लांट के लिए जमा हुआ है 83.51 करोड़, स्थापना की सुगबुगाहट

 
व

गोरखपुर । गोरखपुर में पेप्सिको की बाटलिंग प्लांट जल्दी ही लगने की उम्मीद है। पेप्सिको की बाटलिंग कंपनी वरुण बेवरेजेस लिमिटेड की ओर से प्लांट स्थापित करने की सुगबुगाहट शुरू हो गई है। इसके लिए कंपनी द्वारा एक हजार 71 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा।

गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण (गीडा) ने अपनी सक्रियता बढ़ा दी है। इसकी तत्परता का परिणाम यह रहा है कि इस बड़े निवेश के लिए पिछले दो-तीन दिनों में 43.81 एकड़ जमीन (एक लाख 77 हजार 310 वर्ग मीटर) का आवंटन कर दिया। इतना ही नहीं, कंपनी ने इस जमीन के बदले गीडा में 83.51 करोड़ रुपये जमा कराए हैं। गीडा ने यह जमीन फास्ट ट्रैक के आधार पर आवंटित की है। आवंटन पत्र पाने के बाद अब कंपनी ने गीडा को पत्र लिखकर इस तत्परता के लिए धन्यवाद दिया है। कंपनी की ओर से एक हजार 71 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा। लगभग 1500 से अधिक लोगों को रोजगार मिलने का रास्ता साफ होगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की नीतियों के चलते गीडा में बड़े निवेशक आकर्षित हो रहे हैं और निवेश को गति मिल रही है। पेप्सिको के बाटलिंग प्लांट के लिए वरुण बेवरेजेस ने गीडा में एक हजार 71 करोड़ रुपये के निवेश की इच्छा जताई थी। गीडा के साथ ही इंवेस्ट यूपी में आवेदन कर 60 एकड़ जमीन मांगी थी। तत्परता दिखाते हुए गीडा ने इसमें से करीब 43.81 एकड़ जमीन आवंटित कर दी। यह जमीन गीडा ने फास्ट ट्रैक भूखंड आवंटन नीति के तहत प्रथम चरण में सेक्टर-27 में भूखंड संख्या ए-2 आवंटित किया है। इंवेस्ट यूपी से निर्देश मिलने के बाद इस जमीन के लिए 20 सितंबर को ही पैसा जमा करने के लिए कंपनी को पत्र लिखा गया था।

21 को जमा हुआ पैसा, 22 को जारी हुआ आबंटन पत्र

कंपनी ने 21 सितंबर को जमीन का पैसा जमा कर दिया। इसके बाद गीडा ने तत्परता दिखाई और 22 तारीख को आवंटन पत्र जारी कर दिया। बता दे कि गीडा में जमा की गई कंपनी की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट, सुपर मेगा इंवेस्टमेंट की श्रेणी में आता है। कंपनी की ओर से प्लांट का निर्माण कार्य जल्दी ही शुरू होने की उम्मीद है।

प्रदेश में पेप्सिको का आठवां प्लांट

संयुक्त राज्य अमेरिका से बाहर वरुण बेवरेजेस लिमिटेड, पेप्सिको की दूसरी सबसे बड़ी बाटलिंग कंपनी है। कंपनी के पास 36 प्लांट हैं। पूरे देश में पेप्सिको ब्रांड के बिक्री एवं वितरण का अधिकार इसी कंपनी के पास है। उत्तर प्रदेश में अब तक सात प्लांट लग चुके हैं। गीडा में आठवां प्लांट होगा लेकिन यहां का निवेश अधिक है। सात प्लांट से सात हजार लोगों को रोजगार मिल रहा है। यह कंपनी डेरी एवं आइसक्रीम के क्षेत्र में भारत का 70% बाजार आच्छादित करती है। कंपनी को जल्दी ही और भूमि दी जाएगी।

कंपनी में यह होगा तैयार

गीडा में स्थापित होने वाले प्लांट में कार्बोनेटेड साफ्ट ड्रिंक, बेवरेज बेस्ड सीरप, पैकेज्ड पानी, जूस, दूध के पेय पदार्थ, डेयरी प्रोडक्ट एवं बोतल तैयार किए जाएंगे।

बोले सीईओ

गीडा के सीईओ पवन अग्रवाल का कहना है कि निवेशकों की सुविधा के लिए गीडा सदैव तत्पर है। कंपनी को दो-तीन दिन के भीतर जमीन आवंटित कर दी गई है। यह कंपनी एक बड़ा निवेश कर रही है, जिससे डेढ़ हजार से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा। आसपास के क्षेत्रों में रोजगार के अवसर पैदा होंगे। जल्दी ही प्लांट की स्थापना का काम शुरू होने की उम्मीद की जा सकती है।

From around the web