थाने में बेटे के बंद होने से सदमे में चली गई मां की जान, परिजनों ने शव रखकर किया जाम

 
न
कानपुर । नरवल थाना कानपुर आउटर क्षेत्र में पुलिस कार्रवाई के दौरान बेटे की गिरफ्तारी से परेशान एक वृद्ध महिला की गुरुवार शाम मौत होने के बाद, हंगामा शुरू हो गया। आकोशित लोगों ने शुक्रवार को महिला का शव सड़क पर रखकर चक्का जाम कर दिया। हालांकि सूचना पर सक्रिय हुई पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों ने किसी तरह मामले को शांत कराया।

एडिशनल एसपी कानपुर आउटर आदित्य कुमार ने शुक्रवार को बताया कि दो दिन पूर्व दो पक्षों के बीच मारपीट हुई थी। जिसके बाद नरवल पुलिस ने दोनों पक्षों के खिलाफ 151 का चालान किया था। जिसके बाद विवाद फिर से बढ़ गया है। हालांकि पीड़ित परिवार की तहरीर के आधार पर रामशंकर पुत्र राजाराम, अंकित पुत्र रामशंकर साहू, अभिषेक पुत्र रामशंकर साहू, रजोल सिंह उर्फ विजय सिंह पुत्र रोशन सिंह, देवीगुलाम पुत्र कालीचरन के विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत किया गया है जो भी दोषी पाया जाएगा, उस पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। पीड़ित परिवार ने नरवल पुलिस पर लापरवाही के लगे आरोपों के बारे में उन्होंने कहा कि अगर पीड़ित परिवार लिखित शिकायत देता है तो सीओ सदर द्वारा जांच कराई जाएगी।

गौरतलब है कि कानपुर आउटर के नरवल थाना क्षेत्र के नरवल तहसील गेट के सामने अखरी गांव निवासी अंकित साहू व गांव के ही रहने वाले नीतेंद्र कुरील के बीच 29 जुलाई को हुई कहासुनी में मारपीट हो गई,जिसमें नीतेंद्र की शिकायत पर नरवल पुलिस ने कार्रवाई करते हुए अंकित को 151 में जेल भेज दिया। इसके बाद बुधवार को गांव में नीतेंद्र साइकिल से चारा लेकर जा रहा था, तभी रामशंकर साहू व उनके दोनों बेटे अंकित व अभिषेक साहू ने मारपीट शुरू कर दी। गांव के ही रहने वाले रजोल सिंह व देवी गुलाम ने पुलिस से शिकायत न करने की धमकी दी।

इस दौरान थाने में बंद युवक की बीमार मां राजेश्वरी देवी की सदमे में गुरुवार को मौत हो गई, जिसके बाद, शुक्रवार को आक्रोशित परिजनों ने शव को सड़क पर रखकर चक्का जाम कर दिया। सूचना मिलते ही आनन-फानन में एडिशनल एसपी कानपुर आउटर व सीओ सदर भारी फोर्स के साथ मौके पर पहुंचकर पीड़ित परिवार को कार्रवाई का आश्वासन देते हुए समझा-बुझाकर मामले को शांत कराया और शव को कब्जे में लेते हुए पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पीड़ित परिवार ने आरोप लगाया कि गांव के पूर्व प्रधान के इशारे पर नरवल पुलिस ने बेटे की जमकर पिटाई की जिस सदमे में मां राजेश्वरी की मौत हो गई।


 

From around the web