206 निक्षय मित्रों ने लिया 1213 क्षय रोगियों को गोद 
 

 
5
मेरठ। वर्ष 2025 तक देश को टीबी मुक्त बनाने के लिये निक्षय मित्र की भूमिका काफी कारगर साबित हो रही है। जिला क्षय रोग अधिकारी डीटीओ डा. गुलशन राय ने बताया वर्ष 2022 में जनपद में अब तक 206 निक्षय मित्र बनाए गए हैं, जो 1213 क्षय रोगियों को गोद लेकर पुष्टाहार के साथ भावनात्मक व सामाजिक सहयोग उपलब्ध करा रहे हैं। उन्होंने अन्य सामाजिक संगठनों, संस्थाओं और लोगों से भी क्षय रोगियों की मदद के लिए आगे आने की अपील की है।
डा. राय ने बताया. क्षय रोगियों को गोद लेकर भावनात्मक और सामाजिक सहयोग उपलब्ध कराए जाने के अच्छे परिणाम सामने आ रहे हैं। इससे बीच में उपचार छोड़ देने की समस्या पर काफी हद तक अंकुश लगा है। उन्होंने बताया.निक्षय मित्र मिलने से टीबी रोगियों का हौंसला बढ़ जाता है, जब उन्हें यह पता लगता है कि परिवार के अलावा भी ऐसे लोग समाज में हैं जो उनकी परवाह करते हैं। उनके स्वास्थ्य को लेकर चिंता करते हैं और वह नियमित रूप से दवा खा रहे हैं या नहीं, इस बारे में पूछते हैं। कई लोगों की आर्थिक स्थिति ऐसे नहीं होती कि वह उच्च प्रोटीन युक्त पोषाहार प्राप्त कर सकें।
जिले में निक्षय मित्र बनकर जो लोगा टीबी मरीजों का हौसला बढ़ा रहे हैं उनमें जिला ड्रग्स एंड केमिस्ट, वीराना फाउंडेशन, ग्रामीण समाज विकास केन्द्र,बेटियां फाउंडेशन,सारथी वेलफेयर सोसाइटी आदि सामाजिक संस्थाएं शामिल हैं। ये लोग निक्षय मित्र बन कर टीबी मरीजों का हौसला बढ़ाकर उनके साथ भावनात्मक रूप से जुड़ रही हैं। उन्होंने बताया निक्षय पोषण योजना के तहत विभाग की ओर से उपचार चलने तक हर माह पांच सौ रुपए बैंक खाते में सीधे ट्रांसफर किए जाते हैं वहीं निक्षय मित्र हर माह पुष्टाहार उपलब्ध करा रहे हैं।

From around the web