विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर मेरठ में जागरूकता कार्यक्रम और कैंसर जांच कैंप आयोजित

 
न
मेरठ। प्रत्येक वर्ष 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया जाता है। इस दौरान मेरठ में कई जगह पर तंबाकू निषेध जागरूकता कैंप और स्वास्थ्य कैंपों का आयोजन किया गया। मेरठ कैंसर अस्पताल में डा0 उमंग मित्तल की ओर से कैंसर जागरूकता कैंप का आयोजन किया जाएगा। कैंप में वरिष्ठ चिकित्सकों द्वारा लोगों की स्वास्थ्य जांच की गई और उनको कैंसर से होने वाले नुकसान के बारे में जानकारी दी गई। इस दौरान तंबाकू से होने वाली हानिकारक बीमारियों के अलावा कैंसर से बचाव के उपाय भी बताए गए। कैंप में फेफड़ों का सीटी स्कैन, पैथोलाजी और रेडियोलॉजी की जांच करवाने की सुविधा भी उपलब्ध थी। कैंसर स्पेशलिस्ट डा0 उमंग मित्तल के साथ डा0 संजय गुप्ता और डा0 आशीष जैन भी सहयोग प्रदान किया।
इसके अलावा वहीं दूसरी ओर पर्यावरण एवं स्वच्छता क्लब द्वारा विश्व तंबाकू निषेध दिवस के अवसर पर " से नो टू टबैको" विषय पर ऑनलाइन वेबीनार का आयोजन किया गया। क्लब निदेशक आयुष गोयल व पीयूष गोयल ने बताया भारत में प्रतिवर्ष तंबाकू सेवन के कारण दस लाख लोगों की मृत्यु हो जाती है। तंबाकू हर रूप में खतरनाक है, तंबाकू खाने से लोग डिप्रेशन का शिकार हो जाते हैं। तंबाकू सेवन करने वाले लोगों का आत्मविश्वास बढ़ाएं जाने व उनको तंबाकू छोड़ने के लिए प्रेरित करें। क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट डॉ0 सीमा शर्मा ने बताया धूम्रपान और तंबाकू का सेवन मस्तिष्क को कमजोर बनाता है। तंबाकू सेवन से दिमाग में हैप्पी हार्मोन डोपामाइन ज्यादा मात्रा में उत्सर्जित होता है। तंबाकू सेवन से शरीर कमजोर हो जाता है तथा लिवर किडनी और हड्डियों की बीमारियां हो जाती हैं।  तंबाकू को छोड़ना मुश्किल जरूर है लेकिन नामुमकिन नहीं। समाजसेवी विपुल सिंघल ने दुकानदारों से कहा कि वे तंबाकू को ना बेचे, तम्बाकू समाज के लिए हानिकारक है।

From around the web