समाज निर्माण में पारिवारिक संस्कारों की महत्वपूर्ण भूमिका

 
ब65
मेरठ। विश्व परिवार दिवस के अवसर पर पर्यावरण एवं स्वच्छता क्लब द्वारा कनोहर लाल गर्ल्स स्कूल साकेत में समाज निर्माण में पारिवारिक संस्कारों का योगदान विषय पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया, क्लब निदेशक आयुष गोयल पीयूष गोयल ने बताया कि समाज निर्माण में पारिवारिक संस्कारों की महत्वपूर्ण भूमिका है, सभी लोगों को अपनी पारिवारिक जिम्मेदारियों का निर्वाह सोच समझकर करना चाहिए, परिवार समाज की आधारशिला है। मुख्य अतिथि क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट डॉक्टर सीमा शर्मा ने कहा परिवार मनुष्य की प्रथम पाठशाला होती है। व्यक्ति, सामाजिक और नैतिक आदर्श अपने परिवार से ही सीखता है। परिवार से ही मनुष्य को समाज में पहचान मिलती है परिवार मनुष्य को आर्थिक सामाजिक भावनात्मक रूप से मजबूत बनाता है। समाजसेवी विपुल सिंघल ने कहा कि वर्तमान समय में एकल परिवार का प्रचलन है, एकल परिवार में रहने के कारण बहुत से लोग मानसिक समस्याओं का सामना कर रहे हैं। परिवार में रहकर अपने परिजनों के साथ मिलजुल कर समस्याओं का समाधान करने का प्रयास करें। प्राचार्य प्राची सिंह ने कहा किसी भी व्यक्ति के जीवन में परिवार का विशेष योगदान होता है सभी लोगों को, समाज को भी परिवार मानना चाहिए वासुदेव कुटुंबकम। कार्यक्रम का संचालन लक्ष्मी शर्मा ने किया।
इस मौके पर पर्यावरण एवं स्वास्थ्य क्लब के निदेशक आयुष गोयल, पीयूष गोयल, विपुल सिंघल, लक्ष्मी शर्मा , आरके गोयल, सविता, पंकज रानी, रचना राठी, श्रीमती अंजू ,रीना वर्मा ,कुमारी मानसी आदि उपस्थित रहे।

From around the web