मेरठ का खैर नगर बना नकली फूड सप्लीमेंट और स्टेरॉयड का अड्डा, तीन आरोपित गिरफ्तार

 
मेरठ का खैर नगर बना नकली फूड सप्लीमेंट और स्टेरॉयड का अड्डा
मेरठ। कभी पश्चिम उप्र का सबसे बड़ा थोक दवा बाजार खैर नगर इस समय नकली फूड सप्लीमेंट और स्टेरायड बेचने का अड्डा बन गया है। क्राइम ब्रांच ने विदेशी कंपनियों के नकली फूड सप्लीमेंट और स्टेरायड बेचने का खुलासा करके तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया है। इससे पहले भी खैर नगर में नकली फूड सप्लीमेंट पकड़े जा चुके हैं।

मेरठ क्राइम ब्रांच ने मंगलवार देर शाम को शाहपीर गेट और खैरनगर में छापा मारकर नकली फूड सप्लीमेंट, विदेशी कंपनियों के नकली प्रोटीन, इंजेक्शन बनाने की फैक्ट्री पकड़ी। वहां से एक करोड़ रुपये कीमत का माल बरामद करके तीन लोगों को गिरफ्तार किया। देर रात तक छापेमारी चलती रही। एसपी अपराध अनित कुमार ने बताया कि क्राइम ब्रांच की दो टीमों ने शाहपीर गेट और खैर नगर में छापेमारी करके शोएब, बिलाल और दाऊद सैफी को गिरफ्तार किया। शाहपीर गेट स्थित फैक्ट्री में विदेशी कंपनियों के नकली फूड सप्लीमेंट, दवाइयां, इंजेक्शन, प्रोटीन, स्टेरायड तैयार करके खैर नगर में ऊंचे दामों पर बेचते थे। आरोपितों ने बताया कि वह इस नकली माल को मेरठ के साथ-साथ आसपास के जिलों में भी बेचते थे। ड्रग इंस्पेक्टर पीयूष शर्मा ने नमूने लेकर जांच के लिए भेज दिए। आरोपितों के खिलाफ देहली गेट थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है। क्राइम ब्रांच की टीम मेरठ और बाहर नकली माल लेने वाले लोगों के बारे में भी आरोपितों से जानकारी जुटा रही है।

पहले भी खैर नगर में बरामद हुआ नकली माल

खैर नगर बाजार पहले दवाओं का थोक बाजार हुआ करता था। पिछले कुछ सालों में खैर नगर में फूड सप्लीमेंट और स्टेरायड बेचने की दुकानें खुलती जा रही है। इनमें बड़ी संख्या में नकली फूड सप्लीमेंट और स्टेरायड बेचा जा रहा है। पहले भी कई बार छापेमारी में नकली फूड सप्लीमेंट पकड़े जा चुके हैं, लेकिन इस धंधे पर शिकंजा नहीं कसा जा सका। ड्रग विभाग द्वारा इस पर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। अब क्राइम ब्रांच ने इस पर शिकंजा कसा है।

कुछ ही सालों में बन गए करोड़पति

नकली फूड सप्लीमेंट बनाकर बेचने वाले लोग पहले पंचर लगाने और मजदूरी करते थे, लेकिन कुछ सालों में ही इस धंधे में उतरने के बाद करोड़पति बन गए। क्राइम ब्रांच इनसे पूछताछ करके कड़ी कार्रवाई की तैयारी कर रही है। एसपी क्राइम अनिल कुमार ने बताया कि इस धंधे में लिप्त लगभग 12 लोगों को चिहिन्त किया गया है। इनके खिलाफ गैंगस्टर एक्ट में कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। बुधवार को तीनों आरोपितों को जेल भेज दिया गया।

From around the web