सहारनपुर में शौचालय में खिलाडियों का भोजन रखने के मामले में डीएसओ निलंबित

 
न

सहारनपुर, - उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में खिलाड़ियों को खराब भोजन देने और भोजन सामग्री शौचालय में रखने के मामले में सरकार ने संज्ञान लेते हुए मंगलवार को जिला क्रीडा अधिकारी (डीएसओ) अनिमेष सक्सेना को निलंबित कर मामले की जांच के आदेश दिये हैं।
अपर मुख्य सचिव (खेल) नवनीत सहगल ने सक्सेना को निलंबित कर जिलाधिकारी को इस मामले की जांच करने को कहा है। यह मामला सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक वीडियो से उजागर हुआ।
जिलाधिकारी अखिलेश सिंह ने खिलाड़ियों के लिए बने भोजन को दुर्गंध भरे शौचालय में रखने, खिलाड़ियों को खराब गुणवत्ता वाला अधपका भोजन परोसने के मामले की जांच अपर जिलाधिकारी (वित्त) रजनीश मिश्र को सौंप कर तीन दिन के भीतर अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा है। जिलाधिकारी अखिलेश सिंह के मुताबिक गत 16 सितंबर को सहारनपुर के डा. भीमराव आंबेडकर स्पोर्टस स्टेडियम में राज्य स्तर की तीन दिवसीय सब जूनियर बालिकाओं की कबड्डी प्रतियोगिता आयोजित हुई थी। पहले दिन 16 सितंबर को 300 खिलाड़ियों को दोपहर के भोजन में खराब और अधपके चावल परोस दिये गये।
खिलाड़ियों ने जब इसकी शिकायत की तो चावल और पूड़ियों से भरे थाल छिपाकर शौचालय में रख दिये। खाने में छात्रों को रोटियां भी नहीं दी गयी। इस बारे में डीएसओ सक्सेना ने कहा कि भोजन दो बजे शुरू होना था और उसी वक्त सभी खिलाड़ी एक साथ पहुंच गये। जिससे भोजन में अव्यवस्था पैदा हो गई थी। उन्होंने माना कि चावल की गुणवत्ता खराब थी और रोटियां कम पड़ गई थीं।
उन्होंने बताया कि खिलाड़ियों की संख्या 300 थी और भोजन बनाने वाले केवल दो ही लोग थे। खिलाड़ियों को रोटी के लिए एक-एक घंटे तक का इंतजार करना पड़ा और कई खिलाड़ियों को रोटियां भी नहीं मिली। प्रतियोगिता में 17 मंडलों और एक छात्रावास की टीमें भाग लेने आई थीं।
खिलाड़ियों के ठहरने और भोजन की व्यवस्था इसी स्टेडियम में की गयी थी। मामले की गूंज लखनऊ तक पहुंची तो प्रदेश के अपर मुख्य सचिव खेल नवनीत सहगल ने इस मामले में सहारनपुर के जिलाधिकारी अखिलेश सिंह से घटना की पूरी जानकारी मांगते हुए डीएसओ को निलंबित करने का निर्देश दिया है। जिलाधिकारी ने मामले की जांच का काम एडीएम रजनीश मिश्र को सौंपा है।

From around the web