चुनाव आयोग ने चिराग पासवान को दिया हेलिकॉप्टर, पशुपति कुमार पारस को ‘सिलाई मशीन

 
न


पटना । लोक जनशक्ति पार्टी के चुनाव चिह्न 'बंगला' पर चिराग पासवान और पशुपति कुमार पारस गुट के परस्पर दावों के बाद चुनाव आयोग ने पार्टी के नाम और चुनाव चिह्न के इस्तेमाल पर रोक लगा दिया था। अब आयोग की ओर से चिराग पासवान को हेलिकॉप्टर तो वहीं पशुपति कुमार पारस के गुट को सिलाई मशीन का चुनाव चिह्न दिया गया है।

दरअसल, दोनों गुटों को आयोग ने चार अक्टूबर को दोपहर एक बजे तक अपने अपने गुट के लिए नया नाम और सिंबल का तीन विकल्प देने का आदेश दिया था। चिराग पासवान की एलजेपी को लोक जनशक्ति पार्टी (राम विलास) का नाम मिला है, जबकि पशुपति कुमार पारस की एलजेपी को राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी का नाम चुनाव आयोग ने अलॉट किया है। चिराग गुट के प्रदेश अध्यक्ष ने पहले ही कहा था कि मंगलवार तक चुनाव आयोग से सिंबल मिलने की संभावना है। यह भी कहा था कि आज शाम तक चिराग गुट की ओर से उम्मीदवारों के नाम की घोषणा भी हो सकती है।

बता दें कि एलजेपी के मुख्य प्रवक्ता (चिराग गुट) अशरफ ने मंगलवार को  कहा था कि एलजेपी का नाम और चुनाव चिह्न के इस्तेमाल पर रोक लगने के बाद आयोग की ओर से एक पार्टी का नाम और चुनाव चिह्न देना है ताकि बिहार में होने वाले दो विधानसभा सीटों पर उप चुनाव में उम्मीदवार उतारा जा सके। अशरफ ने कहा था कि चिराग पासवान दोनों सीटों से अपना उम्मीदवार मैदान में उतारेंगे यह तय है। तारापुर (मुंगेर) और कुशेश्वरस्थान (दरभंगा) विधानसभा सीट से उप चुनाव होना है। इन दोनों सीटों से एनडीए ने मिलकर राजीव कुमार सिंह को तारापुर से और कुशेश्वरस्थान से अमन भूषण हजारी (शशिभूषण हजारी के बेटे) को उम्मीदवार घोषित किया है। मेवालाल के बेटे ने चुनाव नहीं लड़ने का निर्णय लिया है, लिहाजा राजीव कुमार सिंह को तारापुर से उम्मीदवार घोषित किया गया है।

From around the web