प्रशासन की लापरवाही से हुई पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अनिल उरांव की हत्या : लोजपा

 
प्रशासन की लापरवाही से हुई पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अनिल उरांव की हत्या : लोजपा
बेगूसराय। लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) ने पार्टी के आदिवासी प्रकोष्ठ के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष की हत्या मामले में पूर्णिया जिला प्रशासन पर निष्क्रियता का आरोप लगाया है। पार्टी के प्रधान महासचिव संजय पासवान ने कहा है कि पूर्णिया जिला प्रशासन की निष्क्रियता के वजह से लोक जनशक्ति पार्टी के आदिवासी प्रकोष्ठ के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और मनिहारी विधानसभा से दो बार चुनाव लड़े अनिल उरांव को तीन दिन पहले अपराधियों ने अगवा कर लिया था। लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान लगातार पूर्णिया एसपी के संपर्क में थे। एसपी ने कहा था कि जल्द अपराधियों से मुक्त कराएंगे।

संजय पासवान ने कहा कि अनिल उरांव के परिवार से भी राष्ट्रीय अध्यक्ष लगातार बात कर रहे थे। अपराधियों ने दस लाख की फिरौती मांगी और परिवार के लोगों ने दे भी दिया था। इसके बावजूद अनिल उरांव की अपराधियों ने हत्या कर दी। जिला प्रशासन अगर सक्रिय होती तो अनिल उरांव को बचाया जा सकता था लेकिन, जिला प्रशासन गंभीर नहीं थी, पार्टी इसकी कड़ी भर्त्सना करती है। जिला प्रशासन जल्द से जल्द अपराधियों को गिरफ्तार करे, स्पीडी ट्रायल चलाकर सख्त से सख्त सजा दिलाने का काम करे, अन्यथा इसके गंभीर परिणाम होंगे, लोक जनशक्ति पार्टी के कार्यकर्ता चुप नहीं बैठेंगे।

संजय पासवान ने कहा कि बिहार में की तमाम व्यवस्थाएं पूरी तरह से चरमरा गई है। अपराध चरम पर है, रोज लूट, हत्या, बलात्कार हो रहा है, स्वास्थ्य व्यवस्था पंगु बन गई है, लोग असमय काल के गाल में समाते जा रहे हैं। अपराधी दिन-रात जब जहां चाहे हत्या कर रहे हैं लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार चैन की बंसी बजा रहे हैं। उन्हें बयानबाजी से फुर्सत ही नहीं है, लोगों को झूठ मूठ का भरोसा दिलाकर बरगलाया जा रहा है। बेखौफ बदमाशों ने आदिवासी प्रकोष्ठ के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अनिल उरांव का अपहरण पूर्णिया के खजांची हाट थाना क्षेत्र से 29 अप्रैल को कर लिया था। जिसमें दस लाख रुपये की फिरौती मांगी गई और परिजनों ने फिरौती की रकम भी पहुंचाई लेकिन फिरौती देने के बावजूद अपहर्ताओं ने उनकी निर्मम तरीके से हत्या कर दी, आज रविवार को उनका शव बरामद किया गया। 

From around the web