हरियाणा में ऑक्सीज़न का विशेष प्रबंधन, कई जिलों का कोटा बढ़ाया: खट्टर

 
हरियाणा में ऑक्सीज़न का विशेष प्रबंधन, कई जिलों का कोटा बढ़ाया: खट्टर
कुरूक्षेत्र/सिरसा/भिवानी। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा है कि सरकार का इस समय मुख्य ध्यान राज्य में कोरोना के गम्भीर मरीजों को सर्वप्रथम उपचार देकर उनकी जान बचाना है तथा इसके लिये अस्पतालों के लिये ऑक्सीज़न वितरण का विशेष प्रबंधन किया गया है।

खट्टर ने आज कुरूक्षेत्र, सिरसा और भिवानी जिलों में कोरोना के मद्देनज़र अस्पतालों में स्वास्थय व्यवस्थाओं का जायजा लेने के लिये दौरा किया तथा इस दौरान प्रशासन और स्वास्थय अधिकारियों के साथ बैठकें कर कोरोना का फैलाव रोकने तथा कोरोना मरीजों के उपचार के लिये किये इंतज़ामों की समीक्षा की। उन्होंने इन बैठकों के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा कि सरकार ने कोरोना के इलाज में इस्तेमाल आने वाले यंत्रों और ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित करने के लिए आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने को लेकर 500 करोड़ रुपए का विशेष कोष बनाया है। इस कोष से कोविड-19 से बचाव की चीजों के किसी भी उद्योग पर एक साल के लिए निशुल्क ब्याज पर ऋण उपलब्ध कराया जाएगा।

उन्होंने कहा कि कुरुक्षेत्र जिले का ऑक्सीजन कोटा चार टन से बढ़ाकर छह टन किया गया है और जरूरत पड़ी तो इसमें इज़ाफा भी किया जा सकता है। उन्होंने इस दौरान प्रधान सचिव जी. अनुपमा और जिला उपायुक्त शरणदीप कौर बराड़ से आदेश मेडिकल कॉलेज, आरोग्य अस्पताल, बीएस हर्ट केयर, एलएनजेपी सहित पोर्टल पर पंजीकृत 13 अस्पतालों में कोरोना मरीजों को उपलब्ध कराई जा रही स्वास्थ्य सेवाओं, ऑक्सीजन गैस, अस्पतालों में बैड के साथ साथ कोविड-19 से सम्बन्धित एक-एक व्यवस्था पर फीडबैक रिपोर्ट ली। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार कोरोना को हराने के लिए लड़ाई लड़ रही है इसी उद्देश्य से हर जिले में जाकर कोरोना प्रबंधों की समीक्षा की जा रही है और जिला स्तर पर गठित टीम के प्रत्येक सदस्य से बातचीत की जा रही है और जहां कहीं भी कमियां हैं उन्हें ठीक किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा है और ऑक्सीजन की आपूर्ति की कठिनाई दूर करने के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर मजबूत किया जा रहा है। सरकार ने आज ही ऑक्सीजन के छह कैंटर दूसरे राज्यों से मंगवाए हैं। सरकार ऑक्सीजन की कहीं भी कमी नहीं आने देगी। उन्होंने कहा कि कोरोना प्रबंधों को लेकर जिन अधिकारियों के खिलाफ शिकायतें मिल रही हैं उनके खिलाफ सरकार कार्रवाई कर रही है। इस मुश्कल के समय में सभी अधिकारियों को पूरी मेहनत और ईमानदारी के साथ एक टीम के रूप में काम करना चाहिए। उन्होंने कहा कि राज्य में अब 18 से 44 आयु वर्ग के लोगों का भी कोरोना टीकाकरण का कार्य शुरू कर दिया है इसलिए सभी पत्रकार साथियों को भी पोर्टल पर अपना पंजीकरण कराना चाहिए और मीडिया के सभी साथियों का वरीयता के आधार पर टीकाकरण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जिन मरीजों का ऑक्सीजन स्तर 92 से ऊपर है वे घर में ही एकांतवास में रहें।

खट्टर ने कहा कि कोरोनाकाल के इस कठिन समय में लोगों का पैसा कमाने के बजाय सेवा करना उद्देश्य होना चाहिए। जो व्यक्ति ऐसे समय में पैसा कमाने के लिए दवाईयों, सिलेंडरों और अन्य वस्तुओं की कालाबाजारी करेगा, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने अधिकारियों को आदेश दिए कि प्रशासनिक अधिकारी इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के साथ चर्चा कर निजी अस्पतालों में बैड, वेंटिलेटर, ऑक्सीजन आदि स्वास्थ्य सेवाओं के दाम तय करें ताकि मरीजों को निर्धारित दरों पर निजी अस्पतालों में लाभ मिल सके और जो भी अस्पताल पैसा कमाने के उद्देश्य से निर्धारित दरों से ज्यादा मरीजों से वसूली करे उसके खिलाफ कार्रवाई भी सुनिश्चित की जाए। उन्होंने निजी एम्बुलेंस सेवाओं की भी किलोमीटर आधार पर दरें तय करने के आदेश दिये ताकि मरीजों को ये निर्धारित और बाजिब दरों पर उपलब्ध हो सकें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन निजी अस्पतालों में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए पर्याप्त सुविधाएं हैं और अगर वे नियमों पर खरा उतरते हैं उन्हें प्रशासन पोर्टल पर पंजीकृत कर मरीजों का इलाज करने की अनुमति भी प्रदान करें। उन्होंने आदेश दिए हैं कि जिला स्तर पर गठित टीमें नियमित रूप से अस्पतालों में जाकर ऑक्सीजन, बैड तथा अन्य स्वास्थ्य सेवाओं का ऑडिट कर सरकार को रिपोर्ट भेजें। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि कोविड पैनल पर पंजीकृत अस्पतालों में निर्धारित बैड संख्या के आधार पर ही मरीजों को भर्ती करना चाहिए। अगर अस्पताल में पंजीकृत किए गए बैडों से भी ज्यादा की व्यवस्था है तो वे पोर्टल पर अपने बैडों की संख्या बढ़वा सकता है।



इससे पूर्व, मुख्यमंत्री आज तक चैनल के वरिष्ठ पत्रकार और कुरुक्षेत्र निवासी रोहित सरदाना के निधन पर शोक व्यक्त करने सेक्टर-पांच स्थित उनके मकान पर गए और शोकाकुल परिवार को ढांढस बंधाया।

सिरसा और भिवानी जिलों के दौरे के दौरान श्री खट्टर ने कहा कि इन दोनों जिलों का भी ऑक्सीज़न कोटा बढ़ाया गया है तथा कोविड-19 मरीजों के इलाज में कोई कमी नहीं रहने दी जायेगी। उन्होंने कहा कि बढ़ते कोरोना संक्रमण की कड़ी तोड़ने के उदेश्य से पूरे राज्य में तीन से नौ मई तक लॉकडाउन लागू किया गया है। उन्होंने विपक्षी दलों केे नेताओं और मीडिया से आग्रह किया कि वे प्रदेश में सकारात्मक माहौल बनानेे में सहयोग करें। उन्होंने कहा कि सिरसा जिले का ऑक्सीजन कोटा बढ़ाकर 750 टन कर दिया गया है ताकि कोविड-19 मरीजों के इलाज में कोई कमी न रहे। उन्हाेंने कहा कि प्रदेश सरकार काेरोना संक्रमण फैलाव रोकने के उद्देश्य से हर जिले में जाकर कोरोना प्रबंधों की समीक्षा कर रही है।

भिवानी में उन्होंने ऑक्सीजन कोटा 2.5 टन से बढ़ाकर 3.5 टन करने की घोषण की और कहा कि आवश्यकता पड़ने पर इसे और अधिक बढ़ाया जाएगा। इस अवसर पर प्रदेश के कृषि एवं पशु पालन मंत्री जयप्रकाश दलाल, भिवानी के विधायक घनश्याम सर्राफ तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। उन्होंने कहा कि मरीजों को ऑक्सीजन के छोटे सिलेंडर डॉक्टर की सलाह पर ही दिये जाएं। उन्होंने उपायुक्त को आपात स्थिति के लिए एक निर्धारित मात्रा में ऑक्सीजन सिलैंडर रिर्जव में रखने को भी कहा। उन्होंने कहा कि भिवानी में ऑक्सीजन का रिफिलिंग स्टेशन होने से संकट से निपटने में सुविधा होगी। उन्होंने कहा कि राज्य में कोरोना जांच संख्या बढ़ाई जाएगी।

From around the web