महाराष्ट्र में व्यापारियों ने किया सोमवार से दुकानें खोलने का ऐलान

 
मुंबई।  महाराष्ट्र में कोरोना संकट के बीच लगाए गए लॉकडाउन और प्रतिबंधों के कारण कारोबार बंद है। इधर कारोबारियों ने ऐलान किया है कि सोमवार से वे अपनी दुकानें खोलना शुरू कर देंगे।

 ब्रेक द चेन निर्णय में बदलाव करने के मुद्दे को लेकर बीते दिनों मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए व्यापारी संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक हुई थी। दुकानें खोलने के संबंध में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने 2 दिनों में सकारात्मक निर्णय लेने का आश्वासन दिया था। व्यापारियों ने आज शुक्रवार से दुकाने खुलने का फैसला किया था लेकिन इसे टाल दिया गया। अब व्यापारियों ने सोमवार से पूरे राज्य में दुकानें खोलने का निर्णय लिया है। यह जानकारी महाराष्ट्र चेंबर के अध्यक्ष संतोष मंडलेचा व वरिष्ठ उपाध्यक्ष ललित गांधी ने दी है। 

इधर भाजपा नेता राज के पुरोहित ने कहा कि अगर सरकार ने दो दिन में व्यापारहित में निर्णय नहीं लिया तो सोमवार से सुबह ८ बजे से शाम ६ बजे तक सभी दुकाने और मार्केट खोलेंगे। सभी व्यापारी अपनी-अपनी दुकान खोलकर लॉकडाउन का विरोध करेंगे। पुरोहित के अनुसार पेट की भूख इंसान को अंधा और बेबस बना देती है। बेबस इंसान मजबूर होकर या तो कानून को हाथ में लेता है या फिर उसके पास आत्महत्या करने के अलावा दूसरा कोई रास्ता नहीं होता। आज यही स्थिति महाराष्ट्र की आम जनता और व्यापारी वर्ग की हो गई है। इसके लिए महाराष्ट्र सरकार पूरी तरह से जिम्मेदार है। सरकार सुबह ८ बजे से शाम ६ बजे तक व्यापार करने की अनुमति दे। मुंबई के सबसे बड़े व्यापारी क्षेत्र कालबादेवी, भुलेश्वर, झवेरी बाजार, दागिना बाजार के सभी छोटे - बड़े व्यापारी लॉकडाउन से परेशान हैं।

 राज पुरोहित ने महाराष्ट्र सरकार पर आरोप लगाया कि यह लॉकडाउन अंबानी के घर पर घातक बम से भरी कार, मनसुख हिरेन की हत्या, सचिन वझे का बचाव, गृहमंत्री अनिल देशमुख पर १०० करोड़ वसूली का आरोप इन सभी सरकार विरोधी घटनाओ को छुपाने के लिए और ध्यान भटकाने के लिए लगाया गया यह "पोलिटिकल लॉकडाउन" है।

From around the web