नाराज़गी की अटकलों के बीच शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचे नितिन

 
न

नाराज़गी की अटकलों के बीच शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचे नितिन

गांधीनगर, - गुजरात के नवनियुक्त मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल के मुख्यमंत्री बनने से कथित तौर पर 'नाराज़' राज्य के पूर्व उपमुख्यमंत्री तथा दिग्गज पाटीदार नेता नितिन पटेल आज उनके शपथ ग्रहण समारोह में मौजूद रहे।

कल शाम राजभवन पहुंच कर श्री पटेल के सरकार बनाने के औपचारिक दावे के दौरान श्री नितिन पटेल की अनुपस्थिति को लेकर उनकी नाराज़गी की अटकलें तेज़ हो गयी थीं। पर आज शपथ विधि से पहले ही नवनियुक्त मुख्यमंत्री अहमदाबाद में सुरधारा सर्कल के निकट स्थित श्री पटेल के आवास पर जाकर उनसे मिले और उनका आशीर्वाद ग्रहण किया।

आम तौर पर हँसते मुस्कराते रहने वाले  नितिन पटेल का चेहरा हालांकि मुरझाया ही था, पर उन्होंने पत्रकारों से कहा कि अपने ही समुदाय के श्री पटेल उनके क़रीबी मित्र हैं। वह ज़रूरत पड़ने पर उन्हें मार्गदर्शन भी देंगे। इसके बाद  नितिन पटेल के भी राजभवन पहुंचने से सत्तारूढ़ भाजपा ने राहत की सांस ली। उन्होंने शपथ लेने के बाद श्री पटेल को मंच पर गर्मजोशी से बधाई भी दी। इस मौक़े पर केंद्रीय मंत्री अमित शाह और चार भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री भी उपस्थित थे।

पहली बार के विधायक भूपेन्द्र पटेल के नाम की अचानक घोषणा से पहले जिन नामों को मुख्यमंत्री की रेस में सबसे आगे माना जा रहा था उनमें एक राज्य के सबसे अनुभवी भाजपा नेता तथा आधा दर्जन से अधिक बार विधायक और मंत्री रह चुके  नितिन पटेल का नाम शामिल था।

विधायक दल की बैठक से पहले उन्होंने पत्रकारों से कहा भी था कि मुख्यमंत्री एक अनुभवी विधायक को होना चाहिए।

सूत्रों ने बताया कि  भूपेन्द्र पटेल के नाम की घोषणा के बाद ही कल शाम वह अपने गृह नगर महेसाणा रवाना हो गए। आम तौर पर मीडिया से ख़ूब बात करने वाले श्री पटेल ने तब पत्रकारों से बात भी नहीं की थी ।

इससे पहले वर्ष 2017 में जब उन्हें वित मंत्रालय का प्रभार नहीं दिया गया था तो उन्होंने लगभग खुले बग़ावती तेवर अपना लिए थे। पार्टी आलाकमान को उनके सामने झुकना पड़ा था। बताया जा रहा है कि उन्हें इस बार उत्तराखंड के राज्यपाल पद का प्रस्ताव दिया गया था ।

राजनीति के माहिर  नितिन पटेल सक्रिय राजनीति में बने रहना चाहते हैं। बताया जाता है कि उनके पूर्व मुख्यमंत्री विजय रूपाणी से भी अच्छे सम्बंध नहीं थे। श्री रूपाणी जहां  अमित शाह के पसंदीदा थे वही  नितिन पटेल गुजरात की राजनीति में श्री शाह का विरोधी खेमा मानी जाने वाली श्रीमती आनंदीबेन पटेल के नज़दीकी माने जाते हैं।

राज्य में अगले साल होने वाले चुनाव के मद्देनज़र भाजपा श्री पटेल की नाराज़गी की पूरी तरह अनदेखी नहीं कर सकती।

From around the web