तांत्रिक विद्या से जमीन में गढ़े धन को निकालने का झांसा देकर 19 लाख रुपये हड़पे

 
1

जयपुर। हरमाडा थाना इलाके में तांत्रिक विधा से जमीन में गढ़े धन को निकालने का झांसा देकर जालोर के युवकों से 19 लाख रुपये हड़पने का मामला सामने आया है। पीड़ित अपनी पीड़ा लेकर कमिश्नरेट में अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर अजय पाल लांबा से मिले, जिसके बाद हरमाड़ा थाने में मुकदमा दर्ज हुआ। मामले में तीनों पीड़ित कथित तांत्रिक के किडनैप के मामले में गिरफ्तार हो चुके हैं। पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी है।

अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर अजय पाल लांबा ने बताया कि राजेंद्र नगर,जालोर निवासी इन्द्र चन्द सैनी ने हरमाडा थाने मे मामला दर्ज करवाया है कि वह जालोर में मिठाई की दुकान चलाता है। 20 अगस्त को इसके पड़ौसी हरिदास ने परिचित बिजली ठेकेदार अशोक मीणा के पास एक तांत्रिक होने का हवाला देकर जमीन से गढ़ा धन निकालने की बात कही। 26 अगस्त को अशोक मीणा के कहने पर इन्द्रचन्द, हरीदास और बाबूसिंह कार से जयपुर आए। यहां अशोक मीणा ने फोन पर बात कर तीनों को दौलतपुरा टोल से आगे बलूची में एचपी पैट्रोल पर मिलने बुला लिया,जहां पर अशोक मीणा अपने परिचित मुकेश मीणा, बाबूलाल मीणा के साथ मिला। जहां बाबूलाल मीणा ने खुद को तांत्रिक विधा का जानकर होना बताकर पूजा, अर्चना और भेंट के नाम पर 8.51 लाख रुपये लिए और गढ़ा धन निकालने की गारंटी दी। बाबूलाल ने दो दिन बाद रात में मुहूर्त बताया। इसके बाद पीड़ित चौमूं रोड स्थित एक होटल में ठहर गए। 28 अगस्त को बाबूलाल मीणा ने पीड़ित को व्हाट्सएप कॉल कर पेट्रोल पम्प पर बुलाया, जहां पर अशोक, मुकेश व सीताराम मिले। रात दस बजे बाबूलाल कार लेकर आया। जहां 28 अगस्त को पीड़ितों को रात करीब साढ़े 12 बजे जंगल के रास्ते एक पहाड़ पर ले जाया गया, जहां 4-5 अन्य लोग मौजूद मिले। वहां एक गड्ढा खोदा गया। इसके बाद बाबूलाल ने पूजा फेल होना बताकर बाद में धन निकालने की बात कही। पीड़ितों ने रुपये वापिस मांगे तो बाबूलाल मीणा ने विश्वाश दिलाया और 6 सितम्बर को काम करने की बात कही। इसके बाद पीड़ित जालोर चले गए। जब आरोपित बाबूलाल ने पीड़ितों को बार बार कॉल कर दुबारा पूजा अर्चना के नाम पर 10.50 लाख रुपये की डिमांड की। 4 सितंबर को पीड़ित रुपये लेकर वापिस आए। बाबूलाल रुपये रख जंगल में उसी गड्ढे के पास ले गया। वहां पर फिर पूजा फेल होना बता दी और चला गया। 6 सितंबर को पीड़ितों को बाबूलाल मीणा दौलतपुरा टोल के पास मिला। उससे टकाजा किया तो गुस्सा हुआ और गाड़ी में बैठकर जालोर में रुपये दिलाने की बात कही। जालोर में पहुंचने पर बाबूलाल मीणा के परिचित का मोबाइल स्विच ऑफ आया तो अजमेर में देने की कहकर ले गया। वहां भी रुपये नहीं मिले तो वापिस जयपुर में 200 फ़ीट बायपास ले आया। यहां पहले से तीन चार गाड़ियों में मौजूद लोगों ने पीड़ितों के साथ मारपीट की और वहां से भगा दिया। पीड़ित ने पूरे घटनाक्रम में शामिल लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।

थानाधिकारी चेनाराम बेडा ने बताया कि जालोर जाने के दौरान बाबूलाल मीणा की पत्नी ने हरमाड़ा थाने में उसके अपहरण की रिपोर्ट दर्ज करवा दी। इस पर पुलिस ने इन्द्रचन्द, हरीदास और बाबूसिंह तीनों को गिरफ्तार कर लिया। जेल से जमानत होने पर तीनों कमिश्नरेट अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर अजय पाल लांबा के पास पहुंचे और अपनी पीड़ा सुनाई। इस पर हरमाड़ा थाने में मुदकमा दर्ज किया गया है। बाबूलाल मीणा के खिलाफ पूर्व में इस तरह के मामले दर्ज हैं।

From around the web