पुलिस से घिरा देख इनामी बदमाश ने अपने ही अवैध देशी कट्टे से खुद को मारी गोली

 
1

जयपुर। जयपुर ग्रामीण जिले के कोटपूतली थाना इलाके में हत्या,लूट,डकैती व चोरी सहित विभिन्न संगीन अपराधों में लिप्त एक बदमाश ने पुलिस से घिरा देखकर खुद को गोली मार ली। उसके साथ उसके दो और साथी थे जो अंधेरे में ओझल हो गए। जिनकी पुलिस तलाश में जुटी है। इधर पुलिस टीम ने बदमाश के शव को मोर्चरी में रखवाया और फोरेंसिक संबधी अन्य जांच एजेंसियों को इसकी सूचना देकर मौके से सबूत जमा किए गए। मृतक का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों के हवाले किया गया। जहां परिजनों पैतृक गांव ले जाकर उसका अंतिम संस्कार कर दिया।

जयपुर ग्रामीण पुलिस अधीक्षक शंकर दत्त शर्मा ने बताया कि रूपा चंद उर्फ सुक्खा गुर्जर (21) निवासी खेतड़ी झुंझुनूं ने खुद को गोली मार ली। जिसकी उसकी मौके पर ही मौत हो गई है। सुक्खा खेतड़ी में शराब ठेकेदार की हत्या के मामले में 6 महीने से फरार चल रहा था। इस पर 5 हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया था। सुक्खा के खिलाफ हत्या, लूट और मारपीट के चार मामले दर्ज थे। वहीं दोनों फरार बदमाशों की तलाश के लिए हाईवे पर आसपास के गांवों में नाकाबंदी करवाई गई,लेकिन उनका कुछ पता नहीं लग सका।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कोटपूतली रामकुमार कस्वां ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि झुंझुनूं जिले के खेतड़ी क्षेत्र का मोस्ट वांटेड बदमाश सुक्खा गुर्जर का मूवमेंट कोटपूतली के ग्राम बाला का नांगल क्षेत्र के बाजरे के खेत में अपने साथियों के साथ देखा गया है और उनके पास हथियार हो सकते हैं। इस पर पुलिस टीम मौके पर पहुंची और बदमाशों को सरेंडर करने के लिए कहा गया तो बदमाशों की ओर से पुलिस पर फायरिंग की गई। इस दौरान पता चला कि शातिर बदमाश सुक्खा गुर्जर अपने साथियों के साथ है तो पुलिस ने सुक्खा को सरेंडर करने के लिए कहा। इधर पुलिस के भारी जाब्ता देख दो बदमाश दूसरी दिशा में भाग गए। लेकिन सुक्खा को अंधेरे में चारों तरफ से पुलिस ने घेर लिया । खुद को पुलिस से घिरा देखकर सुक्खा ने पिस्टल से सिर में गोली मार ली। पुलिस ने पास आकर देखा तो उसकी मौत हो गई थी।

गौरतलब है कि बदमाश सुक्खा झुंझुनूं जिले के खेतड़ी तहसील के आसपास के गांवों में अपना रुतबा बनाना चाहता था और उसके खिलाफ हत्या से लेकर लूट,मारपीट के भी मुकदमें दर्ज हो चुके थे। कई बार दहशत फैलाने के लिए वह फायरिंग भी कर चुका है। 29 मई को सुक्खा ने अपने साथी चुन्नीलाल के साथ मिलकर दुधवा खेतड़ी में महेंद्र सिंह की गोली मार कर हत्या कर दी थी। महेंद्र सिंह शराब ठेकेदार था और वह सेल्समैन को खाना देकर घर जा रहा था। सुक्खा अपने साथी चुन्नीलाल के साथ रास्ते में ही छिप कर बैठा था और जैसे ही महेंद्र सिंह आया तो दोनों ने मिलकर मारपीट की। सुक्खा ने उसके दाएं पैर में गोली मार दी। दोनों वहां से फरार हो गए। खुद महेंद्र सिंह ने अपने बेटे को फोन कर दोनों के बारे में फायरिंग की सूचना दी थी। बाद में महेंद्र सिंह की अस्पताल में मौत हो गई थी।

From around the web