कोरोना संक्रमण से मौतें होने की जानकारी देना नकारात्मक खबरें नहीं, राजनाथ ने क्या मदद की , बताई जाए !

 
न

नयी दिल्ली, - दिल्ली उच्च न्यायालय ने कोरोना वायरस संक्रमण से होने वाली मौतों की खबरें समाचार चैनलों पर प्रसारित करने पर रोक लगाने से जुड़ी याचिका सोमवार को खारिज कर दी।

ललित वालेचा ने न्यायालय में एक याचिका पेश करके कहा था कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर जब से आयी है तब से समाचार चैनल न्यूज आर्टिकल और अन्य कार्यक्रमों के माध्यम से बहुत नकारात्मक चित्र और खबरें अत्यंत गैरजिम्मेदाराना तरीके से प्रसारित कर रहे हैं।

मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति जसमीत ने कहा कि कोरोना संक्रमण के कारण होने वाली मौतों की जनता को जानकारी देना नकारात्मक खबरें नहीं है। इसके बाद दोनों ने यह याचिका खारिज कर दी। न्यायालय ने कहा कि जब खबरें सही होंगी तो उन पर कोई रोक नहीं लगायी जा सकती।

 उच्च न्यायालय ने उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से राजधानी में कोविड अस्पताल स्थापित करने और आक्सीजन आपूर्ति करने की सहायता मांगने संबंधी आग्रह पर की गयी कार्रवाई से अवगत कराने का सोमवार को केन्द्र सरकार को निर्देश दिया।

न्यायमूर्ति विपिन सांघी और रेखा पल्ली ने कहा, “हम केन्द्र को दिल्ली के उप मुख्यमंत्री के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से किये गये आग्रह के बारे में जारी की गयी हिदायतों से न्यायालय को अवगत कराने का निर्देश देते हैं।”

न्यायालय ने इससे पहले दिल्ली सरकार से कहा कि था कि वह सैन्य बलों की सेवायें लेने की जानकारी हासिल करे। सैन्य बल फील्ड अस्पताल स्थापित कर सकते हैं और वहां बड़ी संख्या में कोरोना मरीजों का उपचार किया जा सकता है।

From around the web