दिल्ली में बढ़ते डेंगू, मलेरिया मामले, प्रदेश कांग्रेस ने केजरीवाल सरकार पर साधा निशाना

 
1
नई दिल्ली।  दिल्ली में डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया के मामले लगातार तेजी से अपने पैर पसार रहें हैं हालांकि अब इसपर राजनीति भी होने लगी है। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ अनिल कुमार ने केजरीवाल सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि, केजरीवाल सरकार की ध्वस्त स्वास्थ्य व्यवस्था को दिल्लीवासी पूरे कोविड काल में अच्छी तरह जान चुके हैं और मानसून में डेंगू, मलेरिया सहित रहस्यमयी बुखार से सीएम सहित स्वास्थ्य मंत्री पूरी तरह बेखबर हैं।

पिछले कई दिनों से निकटवर्ती राज्यों में बच्चों में रहस्यमयी बुखार तेजी से फैल रहा है और दिल्ली में भी रहस्यमयी बुखार के कई मामले सामने आए हैं। कोविड काल के चलते विशेषज्ञों के अनुसार रहस्यमयी बुखार जिसका टेस्ट कराने के बाद डेंगू मलेरिया दोनों टेस्ट पाजिटिव आ रहे हैं, ऐसी चितांजनक स्थिति में दिल्ली सरकार असंवेदनशील है।

प्रदेश कांग्रेस के मुताबिक, दिल्ली सरकार के चाचा नेहरु अस्पताल में रहस्यमयी बुखार के प्रतिदिन अत्यधिक मामले ओपीडी में आ रहे हैं और दिल्ली के सामान्य अस्पतालों की ओपीडी में 25 प्रतिशत बच्चों में वायरल बुखार के मामले सामने आ रहे हैं और बड़ी संख्या में बच्चे वायरल बुखार के कारण भर्ती कराए जाने पर आईसीयू बेड पूरी तरह भरे हुए हैं।

दरअसल सोमवार को जारी हुई निगम की रिपोर्ट के अनुसार, इस साल दिल्ली में अब तक 158 मामले डेंगू के सामने आए हैं। साथ ही मलेरिया और चिकनगुनिया के 68 और 40 मामले दर्ज हुए हैं। हालांकि, दिल्ली में डेंगू से अब तक किसी मरीज की मौत नहीं हुई है। वहीं रिपोर्ट में सितंबर महीने के आकंडे दर्शाते हैं कि, इस साल सितंबर महीने के दौरान ही दिल्ली में डेंगू के 34 मामले सामने आ चुके हैं।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अनिल कुमार ने आगे कहा कि, कोविड काल में रहस्यमयी बुखार, डेंगू, मलेरिया और जल से उत्पन्न बीमारियों का बढ़ना दिल्ली के खतरनाक साबित हो सकता है, जबकि दिल्ली की केजरीवाल सरकार और भाजपा शासित दिल्ली नगर निगम दिल्ली की हालत को सुधारने के लिए काम नही कर रही है।

From around the web