बारिश के लिए माना जाता है आर्द्रा नक्षत्र लेकिन इसमें भी किया लोगों को मायूस

 
1
मेरठ। आर्द्रा नक्षत्र को बारिश के लिए जाना जाता है। धर्मशास्त्रों में कहा जाता है कि जब आर्द्रा नक्षत्र लगता है तो खूब झमाझम बारिश होती है। आर्द्रा नक्षत्र लगने पर चारों ओर हरियाली ही हरियाली आ जाती है। हालांकि इस बार बरसात के मौसम में इस नक्षत्र के लगने के बाद भी वो झमाझम बारिश नहीं दिख रही। इस समय आर्द्रा नक्षत्र लगा हुआ है और हल्की फुल्की बारिश की फुहार से तपती धरती भीग रही है। लेकिन इससे धरती की कोई तपिश कम होने वाली नहीं है। इन दिनों मेरठ के लोग उमस भरी गर्मी से बेहाल हैं। हालांकि बुधवार से आसमान मे बादल तो हैं लेकिन बारिश का कही कोई नामोनिशान नहीं है। ऐसे में उमस भरी गर्मी से लोगों को रात में भी राहत नहीं मिल पा रही है। रात का तापमान भी बुधवार को बढकर 27 डिग्री सेल्सियस से अधिक है। दिन का तापमान भले 32 डिग्री सेल्सियस के आसपास है। लेकिन उमस भरी गर्मी के चलते लोग परेशान हैं। 
पांच दिन में अधिकतम तापमान 8 डिग्री कम हुआ :— 
उमस भरी गर्मी से लोग बेहाल हैं और आसमान की ओर बारिश की उम्मीद लगाए हैं। दिन चढऩे के साथ घरों में पंखे व कूलर चालू हो जाते हैं। यही हाल रात का भी है। अधिकतम तापमान अधिकतम 32.5 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 27.0 सेल्सियस रिकार्ड किया गया। हालांकि पांच दिन में अधिकतम तापमान में आठ डिग्री सेल्सियस की कमी आई है। आज गुरूवार को अधिकतम तापमान एक डिग्री और लुढका है। लेकिन, गर्मी से राहत नहीं मिली। गुरुवार को भी अधिकतम तापमान 31.5 डिग्री सेल्सियस रहा जो सामान्य से 2 डिग्री कम है। वहीं न्यूनतम तापमान 27.8 डिग्री सेल्सियस रहा जो सामान्य से दो अधिक है। 
बादलों के छाने व बारिश के आसार :—
मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक अगले एक सप्ताह तक आंशिक रूप से बादलों के छाए रहने के आसार हैं। साथ ही छिटपुट बारिश की भी संभावना नजर आ रही है। मोदी पुरम स्थित कृषि अनुसंधान संस्थान के कृषि वैज्ञानिक डा0 एन सुभाष के अनुसार आने वाले दिनों में शनिवार व रविवार तक बारिश की संभावना है। उन्होंने कहा कि अभी आर्द्रा नक्षत्र चल रहा है। यह अधिक वर्षा के लिए जाना जाता है। शुक्रवार को दोपहर बाद आसमान में बादलों के डेरा जमाने की आशंका है। इसके बाद बारिश भी होगी।

From around the web