ससुराल से नहीं मिले 20 लाख तो पत्नी के टुकड़े कर शव को घर में खोदकर दबाया, पुलिस ने बरामद किए लाश के टुकड़े 

 
1
मेरठ। सरधना थाना क्षेत्र के मोहल्ला छावनी में पुलिस को विवाहिता के शव के टुकड़े हत्यारोपित पति के घर से खुदाई के दौरान बरामद हुए। हालांकि, पुलिस मीडिया से दूरी बनाकर इंकार करती रही। वहीं,दिनभर फारेंसिक टीम और डाग स्क्वॉयड हत्यारोपित के घर से साक्ष्य जुटाती रही। सूत्रों की माने तो आरोपित हत्यारोपी पति करीब दो दिन पहले एक यू्ट्यूब कर्मी की सहायता से सेटिंग कर थाने में पहुंच गया था औैर पुलिस को गुमराह कर रहा था। वहीं, पुलिस भी मीडिया से तमाम जानकारी छिपा रही थी। 
यह है मामला
मंगलवार सुबह को पुलिस, फारेंसिक और डाग स्क्वॉयड टीम हत्यारोपित के घर पहुंची। इसके बाद बंद कमरे में साक्ष्य जुटाती रही। सूत्रों की माने तो आशंका है कि अंदर के कमरे में खुदाई के दौरान रूबी के शव के टूकड़े कट्टों में बरामद हुए। हालांकि, सीओ आरपी शाही व इंस्पेक्टर बृजेश कुमार सहित अन्यों ने मीडिया से दूरी बनाए रखी और बरामदगी से इंकार करते रहे। उधर, हत्या के बाद शव गंगनहर में भी बहाने का मामला सामने आया और गड्ढे से सीमेंट के कट्टे बरामदगी की बात कही। बता दें कि लखनऊ के जानकीपुरम निवासी रामचंद्र गुप्ता पुत्र नौखे लाल गुप्ता की छोटी बेटी रूबी की शादी पांच मार्च 2016 मोहल्ला छावनी निवासी कवि दीपक निराला पुत्र राजकुमार से हुई थी। आरोप है कि एक साल पहले आरोपित पति ने बीस लाख रुपये की मांग की थी। लेकिन कोरोना काल के चलते मना कर दिया था। इसके बाद आरोपित दीपक ने सास मंजू गुप्ता को अन्य नंबर से फोन कर बताया कि रूबी की संदिग्ध हालात में हरिद्वार में मौत हो गई है। रामचंद्र गुप्ता ने आरोपित पति दीपक, देवर ऋषभ, देवरानी राशि सास अनिता व बहन पारुल जैन के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया था।
हत्यारोपित ने पुलिस को, पुलिस ने मीडिया को दो दिन तक किया गुमराह
सूत्रों की माने तो हत्यारोपित एक यूट्यूब कर्मी के माध्यम से पुलिस से सेटिंग कर करीब दो दिन पहले थाने में पहुंच गया। जहां पूरा सेटिंग का खेल चल रहा था। वहीं, अचानक सोमवार को आत्मसमर्पण का मामला चर्चा में आ गया। हालांकि, पुलिस इससे भी इंकार करती रही। इसके बाद पुलिस हत्यारोपित से पूछताछ कर गुमराह होने के बाद दूबारे से घर से ही जांच शुरू की।

From around the web