मोदी के नोटबंदी से तालाबंदी तक के सफर में डूब गयी अर्थव्यवस्था : गौरव बल्लभ

 
1

नयी दिल्ली।  कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रोफेसर गौरव बल्लभ ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के पास कोई आर्थिक नीति नहीं है जिसके कारण जीडीपी गिर रहा है, संगठित और असंगठित क्षेत्र खत्म हो रहा है, बेरोजगारी साढ़े चार दशक के शीर्ष पर है और उद्योगों पर ताले लग रहे हैं।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गुजरात के मुख्यमंत्री से लेकर प्रधानमंत्री पद तक के 20 साल के सफर पूरा होने पर सरकारी जश्न को लेकर प्रोफेसर गौरव बल्लभ ने कहा कि मोदी सरकार आर्थिक प्रबंध में पूरी तरह विफल है। उसकी आर्थिक नाकामयाबी के कारण सकल घरेलू उत्पाद-जीडीपी 2016-17 की तुलना में 2020-21 में घटकर महज 4.3 प्रतिशत रह गया है। आर्थिक विकास की दर कोरोना महामारी से पहले ही आधा से कम रह गयी थी और फिर कोरोना के कारण पहले से ही कमजोर हो चुकी भारतीय भारतीय अर्थव्यवस्था दुनिया में सबसे ज्यादा ढह गयी।
उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के पास आर्थिक विकास का कोई दृष्टिकोण नहीं है जिसके कारण नोटबंदी से लेकर कोराेना के कारण हुई तालाबंदी तक के सफर ने देश की अर्थव्यवस्था को तबाह कर दिया। असंगठित क्षेत्र नोटबंदी के कारण खत्म हो गया था और नोटबंदी के बाद यह क्षेत्र फिर अब तक उठ नहीं पाया है। नोटबंदी के बाद सरकार ने 2017 में बिना तैयारी के जीएसटी लागू किया जिसके कारण संगठित क्षेत्र भी तबाह हो गया।
कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता ने कहा कि आर्थिक हालात की स्थिति यह हो गयी कि रोजमर्रा की जरूरत के लिए सरकार कर्ज ले रही है। वर्ष 2022 तक करों से मिलने वाली आय लगभग 15.5 लाख करोड़ रुपए होगी लेकिन सरकार को कर्ज के रूप में ली गयी राशि के ब्याज के तौर पर साढ़े आठ करोड़ रुपए का भुगतान करना होगा।

From around the web