भारत समाचार और दैनिक भास्कर के दफ्तरों और आवासों पर आयकर विभाग ने मारे छापे,कई कर्मचारी भी रहे निशाने पर 

 
न

नई दिल्ली,| आयकर विभाग ने कथित रूप से टैक्स चोरी को लेकर देश भर में कई स्थानों पर मीडिया इकाई दैनिक भास्कर और उत्तर प्रदेश के प्रमुख न्यूज़ चैनल भारत समाचार के कार्यालयों व आवासों पर छापेमारी की  है। जानकारी के अनुसार दैनिक भास्कर समूह के भोपाल, इंदौर, जयपुर और अहमदाबाद कार्यालयों में छापेमारी की गई है। उत्तर प्रदेश के प्रमुख चैनल भारत समाचार और उसके प्रधान संपादक बृजेश मिश्रा व यूपी प्रभारी वीरेंद्र सिंह के आवास पर भी सुबह से आयकर विभाग की  छापेमारी जारी है। 

आज सुबह आयकर विभाग ने भास्कर समूह के प्रमोटरों के आवासों और कार्यालयों पर भी तलाशी अभियान चलाया ।मध्य प्रदेश सहित तीन राज्यों में दैनिक भास्कर के 40 ठिकानों पर आयकर विभाग द्वारा गुरुवार तड़के छापेमारी की गई। भोपाल के प्रेस कॉम्प्लेक्स स्थित भास्कर समाचार पत्र कार्यालय और अरेरा कालोनी में रहने वाले अख़बार के मालिक सुधीर अग्रवाल के घर पर भी छापेमारी की कार्रवाई हुई। भोपाल के अलावा दैनिक भास्कर पत्र समूह के अहमदाबाद और जयपुर कार्यालयों तथा अन्य ठिकानों पर भी छापे मारे गए। 


इसके अलावा, उत्तर प्रदेश स्थित समाचार चैनल भारत समाचार के कार्यालय में भी छापे मारे गए। इसके लखनऊ कार्यालय और संपादक के आवास पर तलाशी अभियान चलाया गया।आयकर सूत्रों का कहना है  कि छापे चैनल द्वारा 'टैक्स धोखाधड़ी के साक्ष्य' पर आधारित थे। छापे ऐसे समय में आए हैं जब मीडिया समूह ने कोविड -19 की दूसरी लहर के कारण हुई मौतों पर कई कहानियां प्रकाशित और प्रसारित  की हैं और सरकार द्वारा स्थिति से निपटने के बारे में बात की है.

भारत समाचार के मुताबिक, 22 जुलाई की सुबह से इनकम टैक्स की छापेमारी टीम कर रही है. संपादक और प्रोमोटर के अलावा भारत समाचार के कर्मचारियों के घर पर भी छापेमारी की जा रही है। बता दें कि कोरोना संक्रमण, हाथरस रेप मामला या फिर यूपी में बढ़ते अपराध पर भारत समाचार ने खुलकर सरकार की आलोचना की थी। 


मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने 'ईडी और आईटी को हथियारों के रूप में इस्तेमाल करने' के लिए सरकार की आलोचना करते हुए ट्विटर का सहारा लिया और कहा कि आयकर अधिकारी दैनिक भास्कर समूह के लगभग 6 परिसरों में मौजूद हैं, जिसमें भोपाल के प्रेस कॉम्प्लेक्स में इसका कार्यालय भी शामिल है।

इस कार्रवाई के ख़िलाफ़ सोशल मीडिया पर लोगों ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, दिल्ली के मुख्यमंन्त्री अरविन्द केजरीवाल, सांसद संजय सिंह, जानी-मानी पत्रकार रोहिणी सिंह ने इस कार्रवाई को लेकर कहा है कि 'सरकार डरी हुई है'। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि प्रदेश में तैरती लाशों का हिसाब मांगने वाले समाचार चैनल भारत समाचार पर आयकर छापा पड़ा है

न्यूज चैनल पर प्रत्यक्ष रुप से शुरु हुई कार्रवाई पर कांग्रेस पार्टी ने सबसे पहले टिप्पणी की और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, कांग्रेस नेता आराधना मिश्रा मोना ने न्यूज चैनल के ऊपर कार्रवाई को लोकतंत्र पर हमला बताया। कांग्रेस के बाद समाजवादी पार्टी के एमएलसी सुनील सिंह साजन, आप सांसद संजय सिंह ने भी न्यूज चैनल के पक्ष में बयान जारी किया। 

न्यूज चैनल पर हुई कार्रवाई को लेकर मीडिया संगठनों ने भी आपत्ति दर्ज की है और इसमें उत्तर प्रदेश मान्यता प्राप्त समिति के अध्यक्ष हेमंत तिवारी ने कहा कि न्यूज चैनल पर आईटी रेड दुर्भाग्यपूर्ण है। कार्यालय, आवासीय परिसरों में छापेमारी अभिव्यक्ति की आजादी पर हमला है। लोकतंत्र का गला घोंटने वाली कार्रवाई है। 

From around the web