मुज़फ्फरनगर में बसपा ने भी प्रत्याशी घोषित किये, सदर से पुष्पांकर, पुरकाजी से सुरेंद्र, चरथावल से सलमान होंगे उम्मीदवार 

बुढ़ाना से छपरौली के अनीस अल्वी को दिया टिकट, मौलानाओं की सिफारिश पर टिकट दिए जाने की है चर्चा !
 
न

मुजफ़्फरनगर। बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने मुजफ्फरनगर जिले की चार विधानसभा सीटों पर आज अपने प्रत्याशी घोषित कर दिये है, जिसमें शहर सीट से पुष्पांकर पाल, पुरकाजी से सुरेन्द्रसिंह, चरथावल से सलमान सईद, बुढाना से हाजी अनीस अल्वी को मैदान में उतारा गया है। बसपा सुप्रीमो ने पार्टी कार्यकर्ताओं से एकजुट होकर प्रत्याशियों को विजयी बनाने का आव्हान किया है। बसपा सुप्रीमो मायावती ने आज प्रत्याशियों की पहली सूची जारी करते हुए सबसे पहले मुजफ्फरनगर जनपद की चार विधानसभा सीटों पर अपने प्रत्याशी घोषित किये हैं।

मायावती ने शहर विधानसभा सीट से पुष्पांकर पाल को अपना अधिकृत प्रत्याशी घोषित किया है। गांव भिक्की निवासी पुष्पांकर पाल जिला पंचायत सदस्य भी रह चुके हैं और बसपा के समर्पित व सक्रिय सदस्य है। युवा व पार्टी का समर्पित सिपाही होने के कारण पुष्पांकर पाल पर इस बार पार्टी ने दांव खेला है, इसी प्रकार पुरकाजी विधानसभा क्षेत्र से वरिष्ठ अधिवक्ता सुरेन्द्र पाल सिंह मैनवाल को प्रत्याशी बनाया गया है। सुरेन्द्र सिंह पार्टी के कैडर बेस कार्यकर्ता है और लम्बे समय से जमीनी स्तर पर कार्य कर रहे है। पहले भी वह टिकट के प्रबल दावेदार रहे है, लेकिन किन्हीं कारणों से उनका टिकट नहीं हो पाया था। इस बार बसपा सुप्रीमो बहन कुमारी मायावती ने सुरेन्द्र सिंह मैनवाल पर अपना विश्वास जताते हुए उन्हें पुरकाजी सुरक्षित विधानसभा सीट से प्रत्याशी बनाया  है। 

चरथावल विधानसभा क्षेत्र से बसपा ने सलमान सईद को अपना प्रत्याशी बनाया है। सलमान सईद पूर्व मंत्री व पूर्व सांसद सईदुज्जमां के पुत्र है और लम्बे समय से कांग्रेस में ही सक्रिय रहे है। वर्ष 2016  में हुए उप चुनाव में वह शहर विधानसभा से कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में चुनाव भी लड चुके है। उन्होंने गत दिवस ही कांग्रेस छोडकर बसपा की सदस्यता ग्रहण की थी और आज सुबह ही बसपा सुप्रीमो मायावती ने उन्हें चरथावल विधानसभा सीट से प्रत्याशी घोषित कर दिया। हालांकि उनके टिकट का विरोध भी हो रहा है और पार्टी के पुराने कार्यकर्ता व विधानसभा प्रभारी अरशद राना ने अपनी उपेक्षा का आरोप लगाकर कई गंभीर आरोप भी पार्टी के वरिष्ठ नेता व पदाधिकारियों पर जडे हैं।

बसपा ने सबसे चौंकाने वाला टिकट बुढाना विधानसभा सीट पर दिया है, जहां पर हाजी अनीस अल्वी को बसपा प्रत्याशी बनाया गया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार हाजी अनीस अल्वी छपरौली क्षेत्र के गांव कुरडी के मूल निवासी है और बुढाना व शाहपुर क्षेत्र के मुस्लिम धर्मगुरूओं से उनके अच्छे ताल्लुकात है। इसी कारण उन्हें बसपा ने बुढाना विधानसभा क्षेत्र से पार्टी प्रत्याशी बनाया है। सबसे बडी बात यह है कि हाजी अनीस अल्वी को बसपा का टिकट दिलाने में दारूल उलूम देवबंद से जुडे एक मौलाना का भी अहम योगदान रहा है। उन्हीं की सिफारिश पर हाजी अनीस अल्वी को बुढाना से बसपा का प्रत्याशी बनाया गया है। मजे की बात यह है कि जब हाजी अनीस अल्वी को बुढाना विधानसभा क्षेत्र से बसपा प्रत्याशी घोषित किया गया, तो क्षेत्र के लोगों ने उनका नाम भी नहीं सुना और एक दूसरे से हाजी अनीस अल्वी के बारे में पूछताछ करते रहे। देर रात तक यह चर्चा चलती रही कि हाजी अनीस अल्वी आखिर है कौन। इसके बाद लोगों को जानकारी होनी शुरू हुई कि हाजी अनीस अल्वी छपरौली क्षेत्र के गांव कुरडी के निवासी है और बुढाना क्षेत्र के मौलाओं ने उनके अच्छे सम्बंध है।

From around the web