फोन टैपिंग के मुद्दे पर यूथ कांग्रेस ने किया प्रदर्शन

 
1
नई दिल्ली। भारतीय युवा कांग्रेस (आईवाईसी) के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने सोमवार को कथित फोन टैपिंग के मुद्दे पर विरोध प्रदर्शन किया और इस मुद्दे की संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) और सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में जांच की मांग की। विरोध प्रदर्शन से एक दिन पहले रविवार को वायर ने रिपोर्ट किया कि 40 से अधिक पत्रकार, तीन प्रमुख विपक्षी हस्तियां, एक संवैधानिक प्राधिकरण, नरेंद्र मोदी सरकार में दो सेवारत मंत्री, सुरक्षा संगठनों के वर्तमान और पूर्व प्रमुख और अधिकारी और कई व्यवसायी व्यक्तियों के डेटाबेस की जाूससी हो रही थी।

पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी के नेतृत्व में कई कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मध्य दिल्ली में रायसीना मार्ग स्थित मुख्यालय के पास विरोध प्रदर्शन किया और सरकार के खिलाफ नारे लगाते हुए संसद की ओर मार्च करने की कोशिश की।

दिल्ली पुलिस ने कई आईवाईसी कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया और उन्हें मंदिर मार्ग पुलिस स्टेशन ले गई।

मीडिया से बात करते हुए श्रीनिवास ने कहा कि अंग्रेजों के जमाने में उनका कारोबार 'जासूसी' होता था, आज भी जब वे चले गए तो 'जासूसी' का धंधा जारी है, वे कब सुधरेंगे?

सरकार पर निशाना साधते हुए, आईवाईसी नेता ने कहा, "सात साल बीत चुके हैं और वह (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) हमारे 'मन की बात' नहीं सुनते हैं। सात साल बाद, हमें पता चला कि पेगासस के माध्यम से वह व्हाट्सएप, गैलरी आदि के जरिए हमारे मन की बात सुन रहे थे।

उन्होंने प्रधानमंत्री पर राजनीतिक विरोधियों, पत्रकारों, जजों, उद्योगपतियों, अपने ही वरिष्ठतम मंत्रियों और यहां तक कि आरएसएस के नेतृत्व को भी निशाना बनाने का आरोप लगाया।

श्रीनिवास ने मांग की, "हम जासूसी मामले में शामिल लोगों को दंडित किए जाने तक नहीं रुकेंगे। हम जासूसी मामले में जेपीसी और सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में जांच की मांग करते हैं।"

आईवाईसी के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी राहुल राव ने कहा कि भारी बारिश में फोन टैपिंग के मुद्दे पर कई कार्यकर्ताओं ने संसद भवन की ओर मार्च किया, लेकिन दिल्ली पुलिस ने पार्टी के कई कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया।
 

From around the web