लड़कों को समझना होगा पति धर्म

 
न
माना जाता है कि शादी के बाद लड़की को कई सामाजिक बदलावों से गुजरना पड़ता है। पति समेत पूरे परिवार की जिम्मेदारियां उसके कंधे पर होती हैं और लड़के के जीवन में कोई अंतर नहीं आता लेकिन ऐसा नहीं है।
शादी के बाद घर संभालने की जिम्मेदारी दोनों पर बराबर होती है, इसलिए लड़कों को भी समय रहते अपने व्यवहार और दिनचर्या में कुछ बदलाव जाने जरूरी हो जाते हैं। आइए जानते हैं उन बातों के बारे में:
परिस्थितियों को समझना जरूरी :  
शादी से पहले आपने सिर्फ अपने मन की बात सुनी है लेकिन अब आपको थोड़ा बदलना चाहिए। शादी के बाद पत्नी को परिवार को समझने के लिए समय दें और इसमें इसकी मदद करें। आपकी मां और परिवार को भी आपसे उम्मीदें हैं इसलिए उनके साथ भी पूरा समय बिताएं और उनकी बातों को समझें।
वित्तीय मामलों में सूझबूझ जरूरी:    
अक्सर शादी से पहले लड़कों में फिजूलखर्ची की आदत होती है लेकिन अब आपको भविष्य के बारे में सोचना होगा। इसलिए अभी से पैसा बचाने की आदत डालें।
बात-बात में मम्मी या परिवार से तुलना ठीक नहीं:  
शादी से पहले जैसी लाइफ आप जीते थे, उसी तरह पत्नी भी रहती थी। इसलिए पत्नी को समझें और उनकी मदद करें। शादी का पहला साल इस रिश्ते के लिए सबसे कठिन होता है इसलिए इस वक्त समझदार बनें।
मेरी मां को यह पसंद है, वो तो ऐसा करती हैं.....इस तरह की बातें सास और बहू के बीच दूरियां बढ़ाती हैं। इसलिए पत्नी और परिवार की तुलना ना करें।
झगड़ा होने पर किसी एक के सामने दूसरे का पक्ष न लें। दोनों से अलग-अलग बात करें। कोशिश करें कि उनके झगड़ों के बीच आप न बोलें। बात बिगाडऩे की बजाय टालने की कोशिश करें।
शादी के बाद थोड़ा बदलाव जरूरी है। अपनी अविवाहित जिंदगी की कुछ बुराइयों को दूर करने की कोशिश करें। यह न सोचें कि पत्नी आपके हिसाब से पूरी तरह बदल जाए।
अपने स्पेस के साथ पत्नी की पर्सनल स्पेस का भी ध्यान रखें। उसे अपने हिसाब से जीने की पूरी आजादी दें।
- नरेंद्र देवांगन

From around the web