सहेली जीवन में आगे बढऩे में मददगार हो

 
सहेली जीवन में आगे बढऩे में मददगार हो
लड़कियों का एक-दूसरे की सहेली बनना कोई बुरी बात नहीं है पर सहेली ऐसी होनी चाहिए जिससे मन की बातें कहीं जा सकें, दिल का बोझ हल्का किया जा सके, परेशानियों को बांटा जा सके और समय पर सच्ची सलाह ली जा सके। ये सभी बातें उन सहेलियों के लिए फिट बैठती हैं जो सही माने में एक-दूसरे की हितैषी होती हैं।
इसलिए सहेली बनाने से पहले यह परीक्षण कर लें कि उसमें निम्न गुण जरूर हों।
- सहेली आपको यह अहसास कराए कि वह आपकी एक अच्छी सहेली साबित होगी। वह आपको अपनी व अपनी अन्य सहेलियों की अच्छी बातें बताएं। इससे दोस्तों में विश्वास बढ़ता है।
- सहेली आपकी बातों को ध्यान से सुने। अगर आप सलाह मांगें तो आपके साथ विचार-विमर्श कर अच्छी सलाह दे।
- सहेली आपके अच्छे गुणों की तारीफ करे। आपकी अन्य सहेलियों के साथ भी अच्छा व्यवहार करे।
- यदि आप किसी तरह का सहयोग मांगती हैं तो आपको जरूर दें।
- आपमें कोई बुराई नजर आए या आप कोई बुरा कार्य करें तो आपकी बुराई कभी न करे। एक सच्ची सहेली की तरह समझा कर बुरा कार्य न करने के लिए कहे।
- सहेली आपको नीचा दिखाने का प्रयास कभी न करे और न ही अपनी पढ़ाई, ऊंचे रहन-सहन आदि का रोब आप पर थोपें। जितने सहयोगात्मक ढंग से आप उससे पेश आती हैं, उतने सहयोगात्मक ढंग से सहेली को आपके साथ पेश आना चाहिए।
- यदि आप सहेली की हर बात मानने लगती हैं तो वह आप को गुलाम समझने की भूल कदापि न करे।
- नरेन्द्र देवांगन

From around the web