भोजन जो बनाए रखे जवान

 
न
खिला हुआ चेहरा जवानी का लक्षण है और झुर्रियां बुढ़ापा आने की चेतावनी देती हैं। जवानी तो चार दिन की ही होती है किन्तु कुछ सावधानियां बरत कर जवानी के खिलेपन को और खींचा जा सकता है और बुढ़ापे को टाला जा सकता है। आइए देखें दुनिया के अलग-अलग भागों में लोग जवानी को बनाए रखने के लिए क्या-क्या खाते हैं।
दही:- 1970  के दशक में यह तथ्य सामने आया कि सोवियत जार्जिया में 100  वर्ष से अधिक आयु के स्वस्थ व्यक्तियों की संख्या किसी भी देश से अधिक थी। प्राप्त जानकारी के अनुसार वहां के लोग अपने आहार में योगर्ट (दही) को अवश्य स्थान देते हैं। योगर्ट में कैल्शियम अधिक मात्रा में पाया जाता है जिससे ओस्टियोपोरोसिस से बचाव होता है। इसके अतिरिक्त इसमें उपस्थित अच्छे बैक्टीरिया पाचन क्रि या को दुरूस्त बनाए रहते हैं।
आलिव ऑयल:- शोधकर्ताओं ने पाया कि ग्रीस के क्रीट आइलैंड में हृदय रोग और कैंसर से पीडि़त लोगों की संख्या बहुत कम थी। इसका श्रेय आलिव ऑयल को दिया गया और शोधों से पता चला है कि आलिव ऑयल में पोलीफिनोल और एंटी आक्सीडेंट समुचित मात्रा में पाए जाते हैं जो हमारे शरीर को आयु से संबंधित बीमारियों से बचाए रखते हैं और जवां बनाए रखते हैं।
फिश:- शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि अलास्का के निवासियों मेें हृदय रोग पीडि़तों की संख्या न के बराबर थी। इसका कारण यह पाया गया कि वे बड़ी मात्रा में मछली का आहार के रूप में प्रयोग करते हैं। फिश में ओमेगा 3 फैट्स पाए जाते हैं जो हमारी रक्तवाही नलिकाओं में कोलेस्ट्रोल को जमा नहीं होने देते जो हृदय गति को सामान्य बनाए रखते हैं? हृदय रोग से बचाव शरीर को जवां बनाए रखने में सहायता देता है।
नट्स:- शोधों में पाया गया है कि जो लोग सीमित मात्रा में नट्स का सेवन करते हैं, वे प्राय: दो वर्ष अधिक जीते हैं। असल में नट्स अनसेचुरेटेड फैटस (असंतृत्त वसा) काफी  मात्रा  में होते हैं अत: इनका लाभ आलिव आयल जैसा ही होता है।
रेड वाइन:- रेड वाइन के स्वास्थ्य पर प्रभावों के विषय में कई शोध किए गए हैं जिसके अनुसार इसमें रेसवेरट्राल नाम का एक यौगिक होता है जो शरीर की एजिंग की प्रक्रिया को धीमा कर देता है?
कोको:- पनामा के सानब्लास द्वीप के निवासियों में भी हृदय रोग की मात्रा शेष पानामा वासियों से नौ गुना कम पाई जाती है। इसका कारण यह माना जाता है कि ये लोग कोको से बना हुआ एक पेय काफी मात्रा में पिया जाता है जिससे रक्त प्रवाह स्वस्थ बना रहता है। रक्त प्रवाह के स्वस्थ रहने से उच्च रक्तचाप, मधुमेह, किडनी के रोग और डिमेंशिया संबंधी बीमारियां दूर रहती हैं।
इन पदार्थों के नियमित सेवन से आयु संबंधी बीमारियों को दूर रखा जा सकता है और जवानी को अधिक समय तक बरकरार रखा जा सकता है।
- अशोक गुप्त

From around the web