गर्मियों में सौन्दर्य को कैसे बरकरार रखें ?

 
न


गर्मी के दिनों में गर्मी, धूप, धूल और पसीने से सौन्दर्य प्रभावित होता है। इस मौसम में सजना संवरना बहुत कठिन होता है। यदि निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखा जाय तो आसानी से सौन्दर्य को बरकरार रखा जा सकता है।
मौसमी फलों का पर्याप्त मात्र में सेवन करना चाहिए। हरी शाक-सब्जियों और फलों में विटामिन और खनिज लवण प्रचुर मात्र में होते हैं, फलत: पर्याप्त मात्र में इनका सेवन करने से सौन्दर्य बरकरार रहता है।
शीतल जल, नींबू या फलों का शर्बत, लस्सी ठंडा दूध और ठडाई  का सेवन हितकर होता है। पानी अधिकाधिक मात्र में पीना चाहिए। इससे शरीर ठंडा और नम बना रहता है। ज्यादा मूत्र और पसीना  आने से शरीर के विजातीय पदार्थ भी उसके साथ शरीर से बाहर निकल जाते हैं।
ज्यादा जरूरत होने पर ही बाहर जाएं तथा बाहर जाने से पहले चेहरे, गले, पीठ आदि अंगों पर सनस्क्रीन क्रीम जरूर लगा लें। छतरी का उपयोग भी हितकर होता है।
सप्ताह में 1-2 बार उबटन का इस्तेमाल जरूर करें, इसके इस्तेमाल से झुलसन, गर्म व रूखी हवा के दुष्प्रभाव से राहत मिलती है। खीरे का रस चेहरे पर लगाना हितकर होता है, खीरा व तरबूज आदि का मास्क के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।
दिन में दो बार अवश्य स्नान करें। पसीना ज्यादा आने के कारण सुबह के अलावा शाम को भी स्नान करना आवश्यक होता है। इससे तन-मन तरोताजा हो जाता है तथा चर्मरोगों से भी बचाव होता है।
गर्मी के दिनों में हाथों पर ध्यान देना जरूरी होता है। मौसम की शुष्कता के चलते हाथ अपनी नमी व चमक खो देते हैं। इसलिए दिन में 2 बार इनकी मालिश जरूर करें।
गर्मी के मौसम में खुले रहने के कारण पैर जल्दी गंदे और सांवले हो जाते हैं। इनके बचाव के लिए थोड़े से तेल मिले गुनगुने पानी में दस मिनट के लिए पावों को डुबोकर रखें तथा दस मिनट बाद तौलिए से रगड़कर पावों को पोंछ लें।
धूप से आंखों के बचाव के लिए बाहर निकालते समय अच्छे गुणवत्ता वाले चश्मे का इस्तेमाल करें। दिन में कई बार आंखों पर ठंडे पानी का छींटा मारें।
इस मौसम में बालों की ओर भी ध्यान दें। इस ऋतु में बालों को हल्की चिकनाई की जरूरत पड़ती है। बालों को धूप से बचाएं। बाहर जाते समय सिर को ढक लें। सप्ताह में 1-2 बार बालों में मेहंदी लगा लिया करें।
शुष्क मौसम होने के कारण होंठ फटने लगते हैं। बचाव के लिए होंठों पर ग्लिसरीन या देशी घी लगाएं। स्नान करने से पहले नाभि में सरसों तेल लगा लें। इससे होंठ नहीं फटेंगे।
- राजा तालुकदार

From around the web