अपनी आंखों का ध्यान रखें

 
न
यह तो हम सब जानते हैं कि आंखें प्रकृति की अनुपम देन हैं पर इस अनुपम देन की देखभाल करना भी मनुष्य के लिए बहुत ज़रूरी है। अगर इनकी उचित देखभाल न की जाए तो इस अमूल्य देन से हम वंचित हो सकते हैं। अगर आप इस स्थिति से बचना चाहते हैं तो कुछ बातों को ध्यान में रखें जैसे:-
- आंखों के स्वास्थ्य के लिए जरूरी है आपके शरीर का स्वास्थ्य, इसलिए स्वस्थ पौष्टिक आहार का सेवन करें।
- अगर आपको धुंधला दिखाई दे रहा है तो भी आंखों के डाक्टर से पूरी तरह चेकअप करवाएं। यह नहीं कि सीधे आप्टीशियन के पास चले जाएं। जब आप आंखों के डाक्टर से निरीक्षण कराएं तो रेटिना के साथ-साथ आंखों में दबाव की भी जांच करवाएं।
- बिना डॉक्टर की राय लिये आंखों में कोई भी आई-ड्रॉप्स मत डालें। आंखों में कोई परेशानी होने पर अधिकतर व्यक्ति बिना डॉक्टर की राय लिए कोई भी आई ड्राप्स डाल लेते हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि स्टीरायड दवाइयां सफेद या काले मोतियाबिंद का कारण बन सकती हैं अगर अधिक प्रयोग में लाई जाएं।
- आई ड्रॉप्स प्रयोग करते समय एक्सपायरी तिथि अवश्य जांच लें।
- पढ़ते समय उचित प्रकाश होना चाहिए। किताब की आंखों से उचित दूरी बनाएं रखें और आप आंखों पर दबाव नहीं डालना चाहते तो सीधे हो कर बैठें। झुक कर पढऩा आंखों पर जोर डालता है।
- मधुमेह और रक्तचाप के कारण भी आंखों के स्वास्थ्य को हानि पहुंच सकती है। जो व्यक्ति इन रोगों से ग्रस्त हैं उन्हें आंखों का नियमित चेकअप करवाते रहना चाहिए।
- 40 वर्ष की उम्र के बाद आंखों का चेकअप वर्ष में दो बार अवश्य करवाएं, खासकर आंखों में दबाव की जांच अवश्य करवाएं।
- फलों व सब्जियों का सेवन भी आंखों को सुरक्षा देता है। हरी सब्जियों व फलों में पाया जाने वाला तत्व बैटा केरोटीन से सुरक्षा देता है, इसलिए अपने भोजन में गाजर, पपीते आदि बेटा केरोटीन के उत्तम स्रोतों का सेवन करें।
- विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि एरोबिक्स व्यायाम आंखों के लिए बेहद आवश्यक हैं क्योंकि यह आंखों को पहुंचने वाले आक्सीजन भरे रक्त की आपूर्ति अधिक करता है।
- बच्चों को कांटेक्ट लेंस की बजाय चश्मे का प्रयोग करवाएं क्योंकि ये पहनने में आसान तो होते ही हैं, साथ ही इनकी देखभाल भी आसान होती है। इससे आंखों में इन्फेक्शन होने का खतरा भी कम होता है, साथ ही यह कांटेक्ट लेंस की अपेक्षा अधिक सुरक्षा देता है।
- कांटेक्ट लेंस का प्रयोग करते समय लेंस के प्रयोग, सफाई संबंधी संपूर्ण जानकारी लेकर ही सावधानीपूर्वक इसका प्रयोग करें। कभी भी लेंस को पानी से साफ न करें नहीं तो आपकी आंखों में बैक्टीरियल इन्फेक्शन हो सकता है।
- सोनी मल्होत्रा

From around the web