रूम मेट के साथ निभा कर चलें

 
न
पीजी या किराए पर किसी और के साथ रहना अच्छा भी हो सकता है और चिक-चिक भरा भी। आपके और रूम मेट के बीच का रिश्ता इस बात पर निर्भर करता है कि आप दोनों एकदूसरे के साथ कैसा व्यवहार करती हैं।
शिष्ट और दयालु रहें:  शिष्टता और दयालुता का बड़ा असर सामने वाले पर पड़ता है। हमेशा कोशिश करें कि रूम मेट के साथ शिष्टता से पेश आएं। सामान्य शिष्टाचार ही एकदूसरे के साथ रहने को खुशनुमा बना सकता है। आप जैसा व्यवहार करेंगी, सामने वाले से भी वैसा ही पाएंगी। इससे हो सकता है कि आप दोनों के बीच दोस्ती भी हो जाए।
अपनी चीजें खुद उठाएं:  अपनी रूम मेट से रिश्ता कायम करने का एक और अच्छा जरिया खुद की फैलाई चीजों को खुद और तुरंत उठाना भी हो सकता है। खाने-पीने की चीजों के रैपर्स, गंदे कपड़े और दूसरी चीजें इधर-उधर पड़ी मत छोडि़ए। यदि आपका खुद का कमरा होता तो आप चाहे जितना उसे फैला कर रखतीं लेकिन इस कमरे को साफ ही रखें।
निजता का आदर करें:  आपको हमेशा अपनी रूम मेट की निजता का आदर करना चाहिए। कभी उसकी डाक, मोबाइल फोन, कंप्यूटर या लैपटॉप न खोलें। जब उसका कोई फोन आए तो कमरे से बाहर निकलने की कोशिश करें, ताकि वो अकेले में बात कर सके। अगर वो दफ्तर का कोई काम अकेले रह कर करना चाहती है तो भी उसे अकेला छोड़ दें।
कुछ लेने से पहले पूछेंं:  कई बार आपको रूम मेट की कोई ड्रेस या फिर एक्सेसरी पसंद आती है तो ऐसा नहीं होना चाहिए कि बस उठाया और पहन लिया। कोई भी चीज लेने से पहले उससे अच्छी तरह पूछ लें। वैसे भी अगर आप पूछ कर कोई भी चीज लेंगी तो वह शायद ही कभी मना करेगी। बगैर पूछे कुछ भी लेने से वह नाराज हो सकती है।
अगर आप मूडी हैं तो :  हम सब कई बार मूडी हो जाते हैं। अगर आपको लग रहा हो कि आपका मूड ऊपर-नीचे हो रहा है तो फिर कुछ देर के लिए अकेला रहें। कुछ वक्त अकेले रहने से आप अपनी झल्लाहट अपनी रूम मेट पर नहीं निकालेंगी। वैसे अकेले रहने से आपका गुस्सा भी खुद-ब-खुद शांत हो जाएगा।
चर्चा सीधे करें :  यदि आप दोनों साथ रहती हैं तो ऐसे कई मौके आते हैं, जब आपको कई मुद्दों पर चर्चा करनी होती है।
यह जगह, खाने, काम और कई छोटे-बड़े मुद्दों को ले कर हो सकती है। इसलिए कोई भी बात हो, सीधे बता देना ही अच्छा होता है। रिश्ता बिगड़ेगा कभी नहीं।
- नरेंद्र देवांगन

From around the web