अंजू अग्रवाल को हाईकोर्ट से मिली राहत, बर्खास्तगी का आदेश खारिज

 
न


मुजफ्फरनगर। प्रदेश में निकाय चुनाव और जिले में खतौली विधानसभा सीट के उपचुनाव की चल रही सरगर्मियों के बीच ही नगर पालिका परिषद् मुजफ्फरनगर में भी एक नई हलचल गुरूवार को नजर आई। चार बिन्दुओं पर चल रही जांच में शासन के द्वारा दोषी करार देकर बर्खास्त की गई चेयरपर्सन अंजू अग्रवाल को हाईकोर्ट से बड़ी राहत मिली है।
खबरों के अनुसार दावा किया जा रहा है कि हाईकोर्ट में आज हुई सुनवाई में विद्वान न्यायाधीश मनोज गुप्ता  द्वारा 10 अक्टूबर को अंजू अग्रवाल के खिलाफ शासन द्वारा  की गयी कार्यवाही पर हाईकोर्ट से राहत मिली  है और उनके  बर्खास्तगी का आदेश खारिज कर दिया गया है । अंजू अग्रवाल के पूरे अधिकार वापस होने का दावा किया जा रहा है।
नगरपालिका परिषद् मुजफ्फरनगर में शीर्ष नेतृत्व को लेकर चल रही खींचतान में गुरूवार को नया मोड़ आया है। इस समय पालिका में प्रशासक राज चल रहा है, लेकिन हाईकोर्ट के हवाले से आई खबरों के अनुसार अब जल्द ही पालिका की राजनीति में नया मोड़ आने वाला है।बता दें कि पालिका चेयरपर्सन अंजू अग्रवाल के खिलाफ भाजपा सभासदों राजीव शर्मा और मनोज वर्मा के द्वारा प्रशासन और शासन में शिकायत की गई  थी। चेयरपर्सन ने उनके आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए मजबूती से अपनी लड़ाई लडने की बात कही थी, आज अदालत ने बर्खास्तगी आदेश को खारिज कर दिया है। इससे अंजू अग्रवाल के पूरे अधिकार वापस होने का दावा किया जा रहा है। वहीं विरोधियों ने दावा किया है कि हाईकोर्ट ने शासन को नया निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र किया है, जल्द ही अंजू अग्रवाल के खिलाफ बड़ी कार्यवाही कराते हुए दूसरा आदेश जारी कराया जायेगा । बताया जाता है कि अधिकृत आदेश एक दो दिन में अपलोड कर दिया जायेगा। 

 

 

From around the web