जना स्मॉल फाइनेंस बैंक ने 271वां यूआरसी किया लॉन्च, संजीव बालियान ने किया उद्धघाटन 

 
न

बेंगलुरू। भारत के सबसे बड़े लघु वित्त बैंकों में से एक, जना स्मॉल फाइनेंस बैंक ने उत्तर प्रदेश में अपना अनबैंक्ड रूरल सेंटर (यूआरसी) खोले जाने की घोषणा की है। यह सेंटर खिजरपुर (मदीनपुर) के 30 से अधिक गांवों को बैंकिंग सेवाएं प्रदान करेगा। जना बैंक का यूआरसी माइक्रोफाइनेंस ऋण प्रदान करता है जैसे कृषि ऋण, समूह ऋण, और व्यक्तिगत एवं देयता सेवाएं (बचत खाते, चालू खाते और जमा)। इस प्रकार, यह सरकार की वित्तीय समावेशन रणनीति को पूरा करने में सहायता भी करता है। इस यूआरसी के खुलने के साथ, जना बैंक के अनबैंक्ड रूरल सेंटर की कुल संख्या अब 271 हो गई है और जना स्मॉल फाइनेंस बैंक की शाखाओं की संख्या अब 730 हो गई है।

केन्द्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री और सांसद  डॉ. संजीव बालियान ने इसका उद्घाटन किया और जितेंद्र त्यागी, चेयरमैन बुढाना; परितोष त्यागी,  सतपाल सिंह पाल, अरुण चौधरी, अध्यक्ष, गन्ना सोसायटी आदि इस अवसर पर उपस्थित थे।

जना स्मॉल फाइनेंस बैंक के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी, अजय कंवल; खुदरा वित्तीय सेवाओं के जोनल हेड अमित त्यागी,  जोनल कनेक्ट हेड विजय कुमार और अभिषेक शरन, ज़ोनल हेड - ब्रांच बैंकिंग, जना स्मॉल फाइनेंस बैंक ने शाखा का उद्घाटन किया।

जना स्मॉल फाइनेंस बैंक के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी, अजय कंवल ने बताया कि "जना एसएफबी के लिए उत्तर प्रदेश एक महत्वपूर्ण राज्य है और हमें यहाँ एक और अनबैंक्ड रूरल सेंटर खोलने की खुशी है। हमें विश्वास है कि हमारी फाइनेंसिंग से रोजगार सृजन और आजीविका को बेहतर बनाने में भी मदद मिलेगी। हमें बैंकिंग सेवा-वंचित या अपर्याप्त बैंकिंग सेवा वाले स्थानों में सेवा उपलब्ध कराने की प्रसन्नता है। हम अपने बिजनेस मॉडल के जरिए सुदूर क्षेत्रों तक सर्वोत्तम कोटि के डिजिटल ऋण प्रदान कर पाने में सक्षम हैं। 

उन्होंने बताया कि जना, कृषि ऋण, व्यक्तिगत ऋण, 2 व्हीलर, एमएसएमई ऋण जैसी ऋण सुविधाएं प्रदान करते हुए ग्रामीण भारत का सहयोगी रहा है, साथ ही फिक्स्ड डिपॉजिट और बचत खाता उत्पादों की अपनी श्रृंखला के माध्यम से बचत के लिए प्रोत्साहन देता है और उक्त सभी सुविधाएं डिजिटल माध्यम से समर्थित हैं।

From around the web