मुजफ्फरनगर में विश्व स्तनपान सप्ताह के अंतर्गत मीडिया कार्यशाला का आयोजन

 
न
मुजफ्फरनगर। जनपद के चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा विश्व स्तनपान सप्ताह के अंतर्गत शनिवार को जिला चिकित्सालय परिसर स्थित रेड क्रॉस भवन में मीडिया कार्यशाला का आयोजन किया गया।
कार्यशाला को संबोधित करते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ महावीर सिंह फौजदार ने बताया प्रति वर्ष एक अगस्त से लेकर सात अगस्त के मध्य विश्व स्तनपान सप्ताह मनाया जाता है, जिसका उद्देश्य जन जागरूकता करना है।  उन्होंने बताया स्तनपान बच्चे का सुरक्षा कवच है। जन्म के पहले घंटे से ही इसकी शुरुआत कर देनी चाहिए। उन्होंने बताया छह महीने तक बच्चे को केवल स्तनपान कराना चाहिए। केवल स्तनपान से ही बच्चे को पूर्ण पोषण और आहार मिल जाता है तथा स्तनपान बच्चे के संपूर्ण शारीरिक और मानसिक विकास में वृद्धि करता है। स्तनपान से बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी वृद्धि होती है। जिससे बच्चे का बीमारियों से बचाव रहता है। जन्म के बाद बच्चे को पानी, शहद घुट्टी आदि न पिलाकर केवल स्तनपान कराना चाहिए। बच्चों को कृत्रिम दूध अथवा गाय या भैंस का दूध एवं बोतल का दूध नहीं पिलाना चाहिए। उन्होंने कहा ज्यादातर बच्चों को पर्याप्त मात्रा में मां का दूध नहीं मिल पाता है। इससे बच्चों मे कई प्रकार की समस्याएं विशेष रूप से कुपोषण जैसी घातक बीमारी देखने को मिलती हैं, जिन्हें स्तनपान को बढ़ावा देकर ही रोका जा सकता है। मां का दूध शिशुओं का सर्वोत्तम एवं सम्पूर्ण आहार है, जिसका कोई विकल्प उपलब्ध नहीं है। इससे बच्चे एवं मां में भावनात्मक जुड़ाव पैदा होता है और बच्चे का सर्वांगीण विकास होता है।
मीडिया कार्यशाला में अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ शरण सिंह, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ राजीव निगम, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ प्रशांत कुमार, जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ विपिन कुमार, जिला स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी डॉ गीतांजलि वर्मा, जिला कम्युनिटी प्रोसेस मैनेजर अनुज सक्सेना, डीयूसी तरन्नुम, जिला सहायक प्रतिरक्षण अधिकारी प्रदीप शर्मा आदि उपस्थित रहे।

From around the web