जीवन में कितनी भी विपत्ति आये, भगवान पर आस्था कम नहीं होनी चाहिए: गंगोत्री तिवारी

 
H
 मुज़फ्फरनगर । मोहल्ला लक्ष्मण विहार में चल रही श्रीमद भागवत कथा के तृतीय दिवस में कथा व्यास श्री गंगोत्री तिवारी मृदुल जी महाराज ने कुंती प्रसंग का वणर्न करते हुए कहा कि जीवन मे कितनी भी विपत्ति आए, पर भगवान से आस्था कम नही होनी चाहिये, क्योंकि भगवान भी धैर्य की परीक्षा लेते हैं, जिस प्रकार से माँ कभी अपने बच्चे का बुरा नहीं चाहती, उसी प्रकार से परमात्मा भी कभी अपने भक्त का अहित नही चाहते, अगर जीवन में हमे दुख मिलता है, तो उसके पीछे कोई न कोई राज़ छुपा होता है। शायद हमारे जीवन मे कुछ अच्छा होने वाला होता है अतः जीवन काल मे जब कोई कार्य अपने मन का हो तो मन मे ये भाव रखे कि भगवान की कृपा बरस रही है जब अपने मन की न हो तो समझे प्रभु की ऐसी ही इच्छा है क्यो की भक्ति का सीधा सीधा अर्थ है कि हरि की इच्छा में अपनी इच्छा रखना महाराज श्री ने कहा कि लोग दुख से डरते है पर कुन्ती जी ने भगवान से दुखो का पहाड़ मांगा वो इसलिए कि हे मेरे बिहारी जी सुख में सब आपको भूल जाते है और दुख में लोग आपको याद रखते है अतः आप मुझे दुःख दे दीजिए, जिससे हे मेरे नाथ मैं आपको कभी भूलूं नहीं। इस अवसर पर मुख्य यजमान के रूप में संजय वर्मा, गीता वर्मा ने पूजन कर महाराजश्री का माल्यार्पण कर सम्मान किया। कथा में समाज के प्रतिष्ठित लोग व क्षेत्र के निवासी बड़ी संख्या में उपस्थित रहे।

From around the web