अधर में लटकी नगरपालिका चुनाव प्रक्रिया की तैयारियां, आरक्षण की बाट जोह रहे प्रत्याशी, जनवरी में चुनाव संभव 

 
न

मुजफ्फरनगर। जनपद मुजफ्फरनगर में विकास कार्यों को रफ्तार देने के लिए कराये गये नगर पालिका परिसीमन से पूर्व नगर पालिका में होने वाले चुनाव को लेकर वार्ड प्रत्याशियों द्वारा जोरो-शोरों से तैयारियां शुरू कर दी गई थी। मगर परिसीमन के कारण सभी 55 वार्ड के तमाम  प्रत्याशियों के चुनावी समीकरण को बिगाड़ कर रख दिया।
परिसीमन के बाद नगर पालिका में 55 वार्ड तो बना दिए गए, मगर नगर पालिका परिषद् में होने वाले वार्ड मेंबरी के चुनाव को लेकर तैयारी कर रहे प्रत्याशियों को असमंजस में डाल दिया गया। नगर पालिका के चुनाव को लेकर अभी आरक्षण की घोषणा नहीं की गई है। वहीं आरक्षण की घोषणा को लेकर क्षेत्र में तरह-तरह की बातें हो रही हैं। चुनावी मैदान में अपना परचम लहराने के लिए राजनैतिक पार्टियों के कार्यकर्ता दावेदारी के लिए उत्सुक नजर आ रहे हैं। वार्डों  में विकास कार्यों को कराकर एवं सफाई व्यवस्था को चाकचौबंद  रखने के लिए अपने प्रतिद्वंदियों की कमजोरी की पूंछ पकड़कर चुनावी मैदान में उतरने की रणनीति को बनाया जा रहा हैं। नगर पालिका चुनाव को लेकर तैयारी करने से इसलिये भी कतरा रहे हैं कि अभी आरक्षण की घोषणा नहीं हुई हैं। नगरपालिका चुनाव में दावेदारी करने वालों का कहना हैं कि चुनाव को लेकर किसी भी  वार्ड़ से कोई सामने नहीं आ रहा हैं, क्योंकि परिसीमन से पूर्व चुनाव की तैयारियों में जुटे प्रत्याशियों के द्वारा की गई मेहनत  एवं चुनावी समीकरण को बिगाड़कर रख दिया, जिस कारण चुनावी प्रक्रिया की तैयारियों को लेकर रणनीति बनाने के लिए अलग तरीका अपनाना पड़ेगा। 

सूत्रों के मुताबिक यूपी में 5 दिसंबर से तीन दिन तक विधानसभा का सत्र होना है, जिसमें अनुपूरक बजट आदि महत्वपूर्ण काम होने है इसलिए उसके बाद ही  निकाय चुनाव की घोषणा होगी और अधिसूचना जारी होगी और जनवरी के मध्य में निकाय चुनाव सम्पन्न होंगे। 

 

From around the web