विशेष संचारी रोग नियंत्रण एवं दस्तक अभियान के लिए नोडल अध्यापकों का संवेदीकरण

 
ल
मुजफ्फरनगर। खंड शिक्षा अधिकारी, मोरना की अध्यक्षता में विशेष संचारी रोग नियंत्रण एवं दस्तक अभियान के अंतर्गत गुरुवार को नोडल अध्यापकों का संवेदीकरण किया गया। बैठक में जिला समन्वयक, यूनिसेफ तरन्नुम द्वारा बताया गया कि शासन के निर्देशानुसार संचारी रोगों से निपटने के लिए एक जुलाई से 31 जुलाई तक संचारी रोग दस्तक अभियान चलाया जाएगा। अभियान के अर्न्तगत आशा एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा गांवों में घर–घर भ्रमण कर प्रत्येक घर का विवरण जुटाया जायेगा और यदि कहीं भी संचारी रोग के रोगी पाये जाते है तो उनका तत्काल इलाज कराया जायेगा। शिक्षा विभाग के द्वारा किये जाने वाले सभी कार्यो एवं दायित्वों के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी दी गई। बैठक में सभी स्कूलों के प्रधान अध्यापक एवं बीएमसी  रूबीना मौजूद रहीं।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. महावीर सिंह फौजदार ने बताया जिलाधिकारी की अध्यक्षता में हुई बैठक में जनसामान्य में जागरूकता कार्यक्रम में योगदान करने के लिए समस्त संबंधित सहयोगी विभागों को दिशा निर्देश जारी किये जा चुके हैं।
जिला मलेरिया अधिकारी अलका सिंह ने बताया – एक जुलाई से विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान का आयोजन किया जाएगा। इसी के लिए गुरुवार को नोडल अध्यापकों का संवेदीकरण किया गया है। जिसमें टाइमलाइन के अनुसार गतिविधियां संपन्न कराने संबंधी सूचना दी गई। इसके साथ ही जनपद में विभिन्न कार्यक्रमों की मॉनिटरिंग की केन्द्रीयकृत व्यवस्था आई ट्रिपल सी के माध्यम से कराने पर बल दिया। डेंगू की रोकथाम के लिए सॉलि़ड वेस्ट मैनेजमेंट तथा स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता को रेखांकित करते हुए संबंधित विभागों को दिशा निर्देश प्रदान किए गये।
जिला वेक्टर जनित रोग (परामर्शदाता) अहतिशाम खान ने बताया-जनपद में वर्तमान में वेक्टर जनित रोगों की स्थिति सामान्य है स्वास्थ्य विभाग द्वारा नियमित रूप से विगत वर्षों के जोखिम वाले गांवों में निरंतर सोर्स रिडक्शन लार्वा रोधी छिड़काव सर्वेक्षण तथा स्वास्थ्य शिक्षा कार्यक्रम कराया जा रहा है। उन्होंने कहा डेंगू तथा अन्य संचारी रोगों की रोकथाम में सामुदायिक सहभागिता की विशेष भूमिका होती है।

From around the web