शाहजी ज्वैलर्स के मालिक अज्जू सर्राफ व आशुतोष स्वरूप के लिए मंगलवार रहा शुभ, कोर्ट ने दी जमानत 

 
न

 

मुजफ्फऱनगर। नगर के प्रतिष्ठित शाहजी ज्वैलर्स के मालिक अजय स्वरूप उर्फ अज्जू सर्राफ व उनके बडे भाई आशुतोष स्वरूप  के लिए  मंगलवार का दिन शुभ रहा। तीन दिन से जेल में बंद दोनों भाईयों को अदालत ने जमानत दे दी है। उनके ऊपर एक युवक को आत्महत्या के लिये उकसाने का मामला चल रहा है, जिसमें कोर्ट में उन्होंने आत्मसमर्पण कर दिया था, उनकी जमानत पर मंगलवार को सुनवाई हुई, जिसमें जिला जज चवन प्रकाश ने मंगलवार को उन्हें जमानत दे दी है।

शहर कोतवाली क्षेत्र के मौहल्ला रामलीला टिल्ला निवासी एक युवक ने सात लाख रूपये के लेनदेन को लेकर तीन साल पहले आत्महत्या कर ली थी। मृतक युवक ने अपने सुसाइड नोट में भगत सिंह रोड पर स्थित शाहजी ज्वैलर्स शोरूम के मालिक अजय स्वरूप उर्फ अज्जू सर्राफ व उनके बडे भाई आशुतोष स्वरूप बंसल के खिलाफ एक दुकान की बिक्री को लेकर मानसिक उत्पीडन करने का आरोप लगाते हुए आत्महत्या करने की बात लिखी थी। पुलिस ने सुसाइड नोट के आधार पर मामला दर्ज कर कार्यवाही शुरू कर दी थी। इस मामले में पिछले माह अज्जू सर्राफ के कोर्ट में पेश न होने पर वारंट भी हो गये थे, जिसमें  पुलिस ने गिरफ्तार किया था, लेकिन फिर जमानत पर छोड दिया गया था। मृतक के भाई चमन सिंह पुत्र प्रताप सिंह निवासी रामलीला टिल्ला ने नई मंडी थाने के थानाध्यक्ष को लिखे शिकायती पत्र में लिखा था कि मेरे बड़े भाई राजेश कुमार ने एक दुकान, जो कि सदर बाजार में स्थित है, पगडी किराये पर लेने के लिये अजय स्वरूप बंसल को तयशुदा रकम 6.55 लाख में से 1 जनवरी 2०19 को तीन लाख रूपये व 18 फरवरी 2019 को तीन लाख पचपन हजार रूपये दिये थे, इन लोगों ने न तो मेरे भाई को उक्त दुकान का कब्जा दिया और न रूपये वापस दिये और उक्त दुकान की चाबी मांगने पर ये मेरे भाई का मानसिक रूप से शोषण करते चले आ रहे थे तथा उसे तरह-तरह से मानसिक रूप से प्रताडित करते थे। एक बार मेरे भाई ने घर आकर बताया भी था कि वह लोग मेरी भाभी व बच्चों को भी जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। उसने बताया था कि 10 जुलाई, 2019 को सुबह साढे आठ बजे मेरा भाई घर से निकला था और समय करीब सवा दस बजे मेरे भाई ने नई मंडी थाने के पास रेलवे क्रासिंग पर रेल के आगे कूदकर आत्महत्या कर ली तथा मेरे भाई के पास से सुसाइड नोट भी बरामद हुआ, जिसमें मेरे भाई ने अजय स्वरूप बंसल व आशुतोष स्वरूप बंसल पुत्र स्व. विष्णु स्वरूप बंसल, प्रतिष्ठान शाहजी ज्वैलर्स, भगत सिंह रोड मुजफ्फरनगर के द्वारा मानसिक उत्पीडन किये जाने के कारण आत्महत्या का कारण बताया। उसने आरोप लगाया था कि मेरे भाई ने अजय स्वरूप बंसल के उत्पीडन के कारण ही आत्महत्या की है। पुलिस ने नई मंडी थाने में इस मामले में मुकदमा दर्ज कर मामले की छानबीन शुरू कर दी थी।
इस मामले में तीन दिन पहले दोनों भाइयों ने अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया था, जहां से अदालत ने उन्हें जेल भेज दिया था। मंगलवार को जिला जज चवन प्रकाश की अदालत में दोनों की जमानत याचिका पर सुनवाई की गयी, जिसमें अदालत ने जमानत पर सुनवाई की। वरिष्ठ अधिवक्ता दुष्यंत सिंह ने उनकी तरफ से पैरवी की। कोर्ट ने दोनों भाईयों को जमानत दे दी है।

From around the web