दलितों के विरुद्ध तुगलकी फरमान प्रकरण में विक्की त्यागी के पिता राजबीर त्यागी व ढोल मालिक  को मिली जमानत

 
न

 

 

मुज़फ्फरनगर। दलितों के खिलाफ मुनादी कराकर जातिगत टिप्पणी करने के मामले में आरोपी राजबीर त्यागी व ढोल मालिक को आज कोर्ट ने जमानत दे दी है। उल्लेखनीय है कि विगत 9 मई 2022 को थाना चरथावल के ग्राम पावटी खुर्द में दलितों के विरुद्ध तुगलकी फरमान जारी करने वाले  कुख्यात विक्की त्यागी के पिता राजबीर त्यागी व ढोल से मुनादी  करने वाले कुंवरपाल को आज कोर्ट से जमानत मिल गई है।

आज विशेष अदालत अनुसूचित जाति जनजाति  कोर्ट के ज़ज़ जमशेद अली ने सुनवाई कर आदेश दिया कि आरोपियों राजबीर त्यागी व कुंवरपाल को 50-50  हज़ार रुपये की दो-दो ज़मानत दाखिल करने पर रिहा किया जाए। अभी आरोपियों के रिहा होने में कुछ समय लग सकता है, क्योंकि जमानतियों की तस्दीक तहसील व पुलिस से होने के बाद ही रिहाई परवाना जारी हो सकेगा। अभियोजन के अनुसार गत 9 मई को दलितों के विरुद्ध ग्राम पावटी खुर्द में ढोल से मुनादी कर दलितों के विरुद्ध खेत, नलकूप में  दलितों के दाखिल होने पर 5 हज़ार रुपये का जुर्माना व 50 जूतों की सज़ा की घोषणा की गई थी, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल  हो जोने पर  अगले दिन पुलिस  ने इसे गंभीरता से लिया और दोनों के विरुद्ध गंभीर धाराओं में मामला दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था  मामला देश व्यापी चर्चित हो गया  बाद में वरिष्ठ अधिकारियों ने गांव में जाकर जानकारी ली थी, दलित नेता  चंद्र शेखर आज़ाद ने भी गांव का दौरा कर चेतावनी दी थी, इसके बाद त्यागी पक्ष की ओर से पंचायत करने का प्रयास किया गया, जो ज़िला प्रशासन ने विफल कर दिया।  राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के मेंबर ने भी गांव का दौरा किया था।

From around the web