मुजफ्फरनगर में पुरुष नसबंदी पखवाड़ा आज,दो चरणों में चलेगा पखवाड़ा

 
म
मुजफ्फरनगर। अब पुरुष निभाएंगे जिम्मेदारी, परिवार नियोजन अपना कर दिखाएंगे अपनी भागीदारी। इस थीम पर चलेगा इसबार पुरुष नसबंदी पखवाड़ा। 21 नवम्बर से चार दिसम्बर तक पखवाड़ा दो चरणों में चलेगा। पहला चरण 21 नवम्बर से 27 नवम्बर तक मोबेलाइजेशन फेज। दूसरा सेवा प्रदायगी फेज 28 नवम्बर से चार दिसम्बर तक चलेगा। यह जानकारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. महावीर सिंह फौजदार ने दी। 
उन्होंने कहा- दम्पति में प्रजनन स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए पुरुषों की सहभागिता बहुत महत्वपूर्ण है। प्रजनन स्वास्थ्य के दृष्टिगत पुरुष नसबंदी बहुत ही मह्त्वपूर्ण है, क्योंकि यह एक मामूली शल्य क्रिया है तथा महिला नसबंदी की तुलना में अपेक्षाकृत अधिक सुरक्षित है। पुरुष नसबंदी के लिए न्यूनतम संसाधनों एवं बुनियादी ढांचे की आवश्यकता होती है। पिछले कुछ वर्षों से किये जा रहे अथक प्रयासों के बावजूद वर्तमान में पुरुष नसबदी की स्वीकृति दर बहुत कम है। उन्होंने बताया- परुष नसबंदी पखवाड़ा संचालन के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन उत्तर प्रदेश की निदेशक अपर्णा उपाध्याय ने प्रदेश के सभी जिलाधिकारियों, मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को पत्र भेज कर निर्देश जारी किये हैं।  
परिवार नियोजन कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डा. दिव्या वर्मा ने बताया- पुरुष नसबंदी पखवाड़ा के प्रथम चरण (मोबेलाइजेशन फेज) के दौरान जनपद में एएनएम / आशा कार्यकर्ता समुदाय में गृह भ्रमण करते हुए पुरुषों से सम्पर्क करेंगी। इच्छुक पुरुषों की पहचान एवं संवेदीकरण करते हुए उनका प्री-रजिस्ट्रेशन करेंगी। इस दौरान परिवार नियोजन में पुरुष भागीदारी और इसके साथ जुड़े विभिन्न मिथकों को बताते हुए सार्वजनिक स्थलों, स्वास्थ्य इकाइयों में प्रचार-प्रसार सामग्री को प्रदर्शित किया जाएगा। परिवार नियोजन के क्षेत्र में कार्यरत हेल्थ पार्टनर्स और अन्य स्वयं सेवी संस्थाओं-संगठनों का समुदाय में पुरुष नसबन्दी की सेवाओं को बढ़ावा देने में सहयोग लिया जाएगा। पुरुष नसबन्दी की स्वीकार्यता बढ़ाये जाने के लिए पंचायती राज संस्थाओं के सदस्यों का संवेदीकरण किया जाएगा।
पुरुष नसबन्दी चैम्पियन्स होंगे चिन्हित 
 पुरुष नसबन्दी पखवाड़ा अभियान के दौरान समुदाय के मध्य संचार, संवाद स्थापित किये जाने के लिए पुरुष नसबंदी के स्वीकारकर्ता पुरुष नसबन्दी चैम्पियन्स को चिन्हित किया जाएगा और उनको समुदाय के मध्य आदर्श दम्पत्ति के रूप में प्रस्तुत किया जाएगा।
सेवा प्रदायगी चरण 28 नवम्बर से
डा. दिव्या वर्मा ने बताया जारी दिशा-निर्देश के अनुसार 28 नवम्बर से चार दिसम्बर तक चलने वाले सेवा प्रदायगी चरण में इच्छुक लाभार्थियों को नसबंदी की सुविधा उपलब्ध करायी जाएगी। जनपद स्तरीय चिकित्सालय के अतिरिक्त क्रियाशील ऑपरेशन थियेटर (ओटी) वाले फर्स्ट रेफरल यूनिट (एफआरयू) अथवा ब्लाक स्तरीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र (सीएचसी) प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र (पीएचसी) पर पुरुष नसबन्दी की जाएगी। 
 पखवाड़े के दौरान आशा एवं एएनएम द्वारा चिन्हित इच्छुक दम्पति को सेवायें 21 नवम्बर से पूर्व प्रदान किये जाने के लिए प्री रजिस्ट्रेशन कार्ड / स्लिप उपलब्ध करायी जाएगी। 
एक सर्जन करेगा अधिकतम 30 केस 
एक सर्जन / सेवा प्रदाता टीम अधिकतम 30 केस कर सकती है। 30 से अधिक केस होने की स्थिति में दो टीमों का सहयोग लिया जायेगा। ब्लाक स्तर पर पुरुष नसबन्दी के सेवा प्रदाता उपलब्ध नहीं होने की स्थिति में आस-पास के एक या दो से अधिक ब्लाकों को सम्मलित करते हुए विस्तृत सेवा प्रदायगी कार्ययोजना तैयार की जाएगी।
निजी क्षेत्र के चिकित्सालयो को भी किया जाएगा सम्मलित
हौसला साझीदारी के अन्तर्गत अधिकृत निजी क्षेत्र के चिकित्सालयो को भी परिवार नियोजन कार्यक्रम में पुरुष भागीदारी बढ़ाये जाने के लिए इस अभियान में सम्मिलित किया जाएगा और उनको अधिक से अधिक नसबन्दी सेवायें देने के लिए प्रेरित किया जाएगा।
अन्य गतिविधियां यथावत चलेंगी
नसबन्दी पखवाडा के दौरान परिवार कल्याण कार्यक्रम की अन्य गतिविधियां यथावत संचालित की जायगी तथा इच्छुक दम्पति को अन्य गर्भनिरोधक साधन यथा- महिला नसबंदी, आईयूसीडी, पीपीआईयूसीडी, अन्तरा व छाया भी उनकी इच्छानुसार उपलब्ध कराये जाएंगे।

From around the web