पुरुष नसबंदी पखवाड़ा शुरू, सीएमओ ने दिखाई सारथी रथ को हरी झंडी
 

 
ं
मुज़फ्फरनगर। जनपद में सोमवार को जिला पुरुष अस्पताल व जिला महिला अस्पताल में पुरुष नसबंदी पखवाड़े का शुभारंभ हुआ। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. महावीर सिंह फौजदार ने जागरूकता वाहन सारथी रथ  को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा परिवार नियोजन की जिम्मेदारी सिर्फ महिलाओं की नहीं है। पुरुषों की भूमिका भी बेहद महत्वपूर्ण है। पुरुष अपनी जिम्मेदारी निभाएं। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र (सीएचसी) खतौली पर जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. लोकेश चंद गुप्ता ने भी सारथी रथ को हरी झडी दिखाकर पुरुष जागरूकता पखवाड़े का शुभारंभ किया। सीएचसी चरथावल पर भी एमओआईसी द्वारा पुरुष जागरुकता पखवाड़े का शुभारंभ किया गया। इस दौरान अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी व परिवार नियोजन कार्यक्रम की नोडल अधिकारी  डॉ. दिव्या वर्मा, आरसीएचस के नोडल अधिकारी डॉ. राजीव निगम, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी अर्बन डॉ. शरण सिंह, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. अरविंद पवांर, डॉ. ईशा, प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ. अवनीश कुमार, डीपीएम विपिन कुमार, डीसीपीएम अनुज सक्सेना, जिला परिवार नियोजन विशेषज्ञ, व अन्य अधिकारीगण मौजूद रहे।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. महावीर सिंह फौजदार ने बताया दम्पति में प्रजनन स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए पुरुषों की सहभागिता बहुत महत्वपूर्ण है। प्रजनन स्वास्थ्य के दृष्टिगत पुरुष नसबंदी भी बहुत ही मह्त्वपूर्ण है, क्योंकि यह एक मामूली शल्य क्रिया है तथा महिला नसबंदी की तुलना में अपेक्षाकृत अधिक सुरक्षित है। पुरुष नसबंदी के लिए न्यूनतम संसाधनों एवं बुनियादी ढांचे की आवश्यकता होती है। पिछले कुछ वर्षों से किये जा रहे अथक प्रयासों के बावजूद वर्तमान में पुरुष नसबदी की स्वीकृति दर बहुत कम है। पुरुष नसबंदी पखवाड़े के तहत विभाग द्वारा पुरुषों में जागरूकता लाने के प्रयास किए जाएंगे और परिवार नियोजन के प्रति प्रेरित करके नसबंदी करवाई जाएगी।
परिवार नियोजन की नोडल अधिकारी व अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. दिव्या वर्मा ने बताया पुरुष नसबंदी पखवाड़ा के प्रथम चरण (मोबेलाइजेशन फेज) के दौरान जनपद में एएनएम / आशा कार्यकर्ता समुदाय में गृह भ्रमण करते हुए पुरुषों से सम्पर्क करेंगी। इच्छुक पुरुषों की पहचान एवं संवेदीकरण करते हुए उनका प्री-रजिस्ट्रेशन करेंगी। इस दौरान परिवार नियोजन में पुरुष भागीदारी और इसके साथ जुड़े विभिन्न मिथकों को बताते हुए सार्वजनिक स्थलों, स्वास्थ्य इकाइयों में प्रचार-प्रसार सामग्री को प्रदर्शित किया जाएगा। परिवार नियोजन के क्षेत्र में कार्यरत हेल्थ पार्टनर्स और अन्य स्वयं सेवी संस्थाओं-संगठनों का समुदाय में पुरुष नसबन्दी की सेवाओं को बढ़ावा देने में सहयोग लिया जाएगा। पुरुष नसबन्दी की स्वीकार्यता बढ़ाये जाने के लिए पंचायती राज संस्थाओं के सदस्यों का संवेदीकरण किया जाएगा।
सीएमओ ने जागरुकता सारथी वाहन किया रवाना
पुरुष नसबंदी पखवाड़ा को लेकर गांव-गांव तक जागरूकता फैलाने के लिए सोमवार को जिला अस्पताल से जागरूकता सारथी रथ को रवाना किया गया। सीएमओ डॉ. महावीर सिंह फौजदार ने हरी झंडी दिखाकर रथ को रवाना किया। उन्होंने कहा  पखवाड़ादो चरणों में चलेगा, पहला मोबेलाइजेशन, दूसरा सेवा प्रदायगी। पहला चरण 21 से 27 नवम्बर तक चलेगा। दूसरा 28 से चार दिसम्बर तक चलेगा।

From around the web