15 जून के बाद फिर से मुजफ्फरनगर सहित प्रदेश में अलर्ट, स्थापित होगा कंट्रोल रुम  

 
1
मेरठ। अभी तक कोरोना संक्रमण के चलते कोरोना कर्फ्यू से परेशान प्रदेश की जनता के लिए अब एक और अलर्ट 15 जून से लागू होने जा रहा है। ये अलर्ट मुजफ्फरनगर सहित प्रदेश के सभी जिलों में लागू किया जाएगा। ये अलर्ट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बाढ़़ के लिए जारी किया है। उन्होंने बाढ़ कण्ट्रोल रूम को तत्काल सक्रिय करने का निर्देश दिया है। जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों को उन्होंने संवेदनशील स्थलों का भ्रमण करने का भी  निर्देश जारी किया। मुख्यमंत्री ने मण्डलायुक्तों, जिलाधिकारियों, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों व पुलिस अधीक्षकों तथा बाढ़ नियंत्रण से सम्बन्धित अधिकारियों ने वर्चुअल माध्यम से भाग लिया। मेरठ मं​डल के मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, बुलंदशहर जिलों में अलर्ट जारी किया जाएगा। 
मंडलायुक्त सुरेंद्र सिंह ने बताया कि बाढ़ नियंत्रण के लिए टीम वर्क तथा अन्तर्विभागीय समन्वय से काम किया जाएगा। बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बेहतर टीम वर्क, अन्तर्विभागीय समन्वय तथा समय से की गई तैयारियों के कारण विगत 04 वर्षों में प्रदेश में बाढ़ से बहुत ही कम जन और धन हानि हुई है। बाढ़ के प्रति अति संवेदनशील तथा संवेदनशील जनपदों में बाढ़ बचाव से सम्बन्धित तैयारियों पर विशेष ध्यान दिया जाए। किसी आपात स्थिति से निपटने की सारी व्यवस्था पहले से की जाए। 15 जून के बाद सभी जनपदों में बाढ़ के प्रति अलर्ट लागू किया जाए। जिलाधिकारियों तथा पुलिस अधीक्षकों से कहा कि अपने-अपने जनपदों में बाढ़ नियंत्रण कक्ष स्थापित करने, बाढ़ संवेदनशील स्थलों की माॅनीटरिंग के साथ-साथ पेट्रोलिंग भी करें।
उन्होंने कहा कि सभी जनपदों में बाढ़ कण्ट्रोल रूम को कार्यशील कर दिया जाए और इनमें प्रशिक्षित लोगों को निरन्तर निगरानी पर लगाया जाए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अगले कुछ दिनों में माॅनसून के सक्रिय होने की सम्भावना है। अतः बाढ़ के प्रति संवेदनशील स्थलों को चिन्हित करते हुए आवश्यकतानुसार राहत सामग्री के पैकेट अभी से तैयार कर लिए जाएं। उन्होंने बाढ़ की स्थिति उत्पन्न होने पर प्रभावित लोगों को कम्युनिटी किचन के माध्यम से फूड पैकेट उपलब्ध कराने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रभावित लोगों को आवश्यकतानुसार ड्राई राशन वितरित करने के लिए अभी से राशन किट तैयार करने के भी निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि बाढ़ की दृष्टि से अतिसंवेदनशील तथा संवेदनशील जनपदों में नौकाओं की उपलब्धता अभी से सुनिश्चित की जाए। बचाव कार्य के लिए बड़े और मध्यम आकार की नौकाएं ही उपयोग में लायी जाएं। छोटे आकार की नौका किसी भी दशा में इस्तेमाल न की जाए। उन्होंने एनडीआरएफ, एसडीआरएफ तथा पीएसी की फ्लड बटालियन को भी एक्टिवेट कर डिप्लाॅय करने के निर्देश दिए। बाढ़ पीड़ितों को समय पर राहत सामग्री उपलब्ध करायी जाए। बाढ़ से प्रभावित होने वाले लोगों की हर सम्भव मदद की जाए। बाढ़ के दौरान फैलने वाले संक्रमणों तथा अन्य स्वास्थ्यजनित परिस्थितियों के मद्देनजर सभी तैयारियां करने के निर्देश दिए। बाढ़ के दौरान सर्पदंश, बिच्छू तथा कुत्ते के काटने की अनेक घटनाएं होती हैं। ऐसे में सभी जनपदों में एण्टी वेनम, एण्टी रेबीज वैक्सीन की उपलब्धता अभी से सुनिश्चित की जाए। सभी आवश्यक दवाओं की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाए। पशुपालन को बाढ़ के दौरान पशुओं में फैलने वाले खुरपका, मुंहपका जैसे रोग की रोकथाम के लिए आवश्यक वैक्सीन का प्रबन्ध समय से करने के निर्देश दिए।

From around the web