नईमंडी के व्यापारी मदन गर्ग हत्याकांड के आरोपी अखिल दत्ता सबूत के अभाव में बरी, 5 को हो चुकी है उम्रकैद

 
न

मुजफ़्फरनगर। नईमंडी के प्रमुख व्यापारी मदन गर्ग को मुजफ्फरनगर से रुड़की बुलाकर हत्या के बाद शव को गंग नहर में फेंकने  के मामले में आरोपी व उम्रकैद की सज़ा पाने वाली काजल के पति अखिल दत्ता को सबूत के अभाव में बरी कर दिया गया।  मामले की सुनवाई एडीजे 13 शक्ति सिंह की कोर्ट में हुई। बचाव पक्ष की ओर से  वरिष्ठ अधिवक्ता वकार अहमद ने पैरवी की ।

बता दें कि  गत 4 फरवरी 2009 को व्यापारी मदन गर्ग अपने घर बताकर गए थे कि वह किसी के बुलावे पर रुड़की जा रहा है, लेकिन व वापस नहीं लौटे। मृतक के भाई उद्यमी रघुराज गर्ग ने मामला दर्ज कराया था। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर मृतक का शव गंगनहर से बरामद कर मामला खोल दिया था। इस मामले में नामजद अखिल दत्ता के कोर्ट में पेश न होने पर उसकी फ़ाइल अलग कर दी थी, जबकि काजल, मंजीत खोकर, सुलेमान, चोंटी शर्मा व समी के विरुद्ध कोर्ट में सुनवाई के बाद गत 2015 को उम्रकैद की सज़ा हो चुकी है, जबकि आरोपी अखिल दत्ता के विरुद्ध सुनवाई बाद में शुरू हुई आज कोर्ट ने सुनवाई के बाद आरोपी अखिल दत्ता को सबूत के अभाव में बरी कर दिया गया है।

From around the web