मुज़फ्फरनगर में बसपा का टिकट न मिलने पर शहर कोतवाली में रोया अरशद राणा, दी आत्मदाह की चेतावनी

 
e

मुजफ्फरनगर। चरथावल सीट से टिकट कटने पर बसपा नेता अरशद राणा शहर कोतवाली में फूट-फूटकर रो पड़े। आरोप लगाया कि पार्टी के एक वरिष्ठ नेता को दो वर्ष पहले टिकट के लिए 67 लाख रुपए दिए थे, लेकिन उन्हे विश्वास में लिए बगैर उनका टिकट काट दिया गया। उनके रुपए भी वापस नहीं किए गए। चेतावनी दी कि यदि उन्हें इंसाफ नहीं मिला तो वह आत्मदाह करेंगे। चरथावल विधानसभा क्षेत्र के गांव दधेड़ु निवासी अरशद राणा काफी दिनों से बसपा में सक्रिय हैं। जिला पंचायत सदस्य पद पर उनकी पत्नी ने बसपा के सिंबल पर चुनाव भी लड़ा था। अरशद राणा गौड़ काफी दिनों से बसपा से चरथावल सीट से चुनाव लडऩे की तैयारी कर रहे थे। एक दिन पहले ही बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट कर जानकारी दी कि चरथावल विधानसभा सीट से पार्टी ने सलमान सईद को प्रत्याशी बनाया है। सलमान सईद प्रदेश के पूर्व गृह राज्यमंत्री सईदुज्जमां के बेटे तथा कांग्रेस नेता हैं। सलमान सईद को चरथावल से बसपा का टिकट दिए जाने की घोषणा से आहत अरशद राणा ने पहले फेसबुक पर अपनी व्यथा लिखी। इसमें उन्होंने टिकट न मिलने से आहत होने की बात कहते बसपा नेताओं पर गंभीर आरोप लगाए। साथ ही आत्मदाह करने तक की धमकी तक दी। अरशद राणा यहीं नहीं रुके और अपने समर्थकों के साथ शहर कोतवाली जा पहुंचे। शहर कोतवाली में उन्होंने तहरीर देकर आरोप लगाया कि बसपा नेता शमसुदिन राईन ने चरथावल सीट से पार्टी का टिकट दिलाने के एवज में उनसे 67 लाख रुपए लिए थे। अरशद राणा ने बसपा नेता से 67 लाख रुपए वापस दिलाने और उन पर कानूनी कार्रवाई करने की मांग की। उन्होंने कहा कि पार्टी नेताओं ने उनका तमाशा बना दिया। बंद कमरे मे बैठकर उन्हें विश्वास में लेकर टिकट दूसरे को दे देते, तो उन्हें इतनी तकलीफ न होती। शहर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक आनंद देव मिश्रा का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। जांच उपरांत आवश्यक कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इस पूरे मामले में बसपा जिलाध्यक्ष सतीश रवि का कहना है कि अरशद राणा का क्या मामला है, मुझे मालूम नहीं है । उन्होंने कहा कि अरशद राणा पार्टी में हैं या नहीं यह भी साफ नहीं है। उन पर पार्टी संगठन की ओर से कोई जिम्मेदारी भी नहीं है। बसपा नेता का थाने में रोने का वीडियो भी सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। अरशद राणा का आरोप है कि 18 दिसंबर 2018 को जिला कार्यालय बसपा मुजफ्फरनगर पर जनपद के विधानसभा सीटों पर प्रभारी नियुक्त होने थे, इससे एक-दो दिन पूर्व ही बसपा के पश्चिमी उत्तर प्रदेश प्रभारी शमशुद्दीन राईन ने उससे कहा कि तुम्हे चरथावल विधानसभा सीट पर प्रत्याशी नियुक्त करेंगे इसके लिए तुम्हे कुछ रूपये देने होंगे, जिसके लिए वह तैयार हो गया था अरशद राणा का आरोप है,कि उक्त तिथि को उसे पार्टी कार्यालय पर सहारनपुर मंडल के मुख्य कॉर्डिनेटर नरेश गौतम व पूर्व मंत्री प्रेमचंद गौतम व सत्यप्रकाश कॉर्डिनेटर एवं तत्कालीन जिलाध्यक्ष मुजफ्फरनगर सतपाल कटारिया आदि की मौजूदगी में बसपा पार्टी के मंच पर वर्ष 2022 का विधानसभा चुनाव लडाने के लिए प्रत्याशी घोषित कर दिया था और पूरा-पूरा आश्वासन दिया गया था, कि आप क्षेत्र में जाकर अपना कार्य करो और उसे विधानसभा क्षेत्र का प्रत्याशी नियुक्त करने के लिए उससे 4 लाख 50 हजार रूपये फिर 50 हजार रूपये और फिर 15 – 15 लाख रूपये 3 किस्तो में लिये गये, तथा इसके बाद भी थोडे-थोडे करके 17 लाख रूपये उससे पश्चिमी उत्तर प्रदेश प्रभारी शमशुद्दीन राईन ने सतपाल कटारिया पूर्व जिलाध्यक्ष मुजफ्फरनगर व नरेश गौतम, सहजाद पुत्र महेजर निवासी देवबंद जिला सहारनपुर व जहांगीर पुत्र महेजर निवासी सरवट जनपद मुजफ्फरनगर की मौजूदगी में लिये गये और उसे पूरा-पूरा विश्वास दिलाया कि तुम्हे ही चरथावल विधानसभा सीट पर प्रत्याशी नियुक्त किया गया है और आप जी-जान से मेहनत में जुट जाओ। फिर भी उसने पश्चिमी उत्तर प्रदेश प्रभारी शमशुद्दीन राईन एवं बसपा के उक्त पदाधिकारियों को कहा कि मेरा टिकट कटता है तो उस स्थिति में मेरे रूपयों का क्या होगा,तो शमशुद्दीन राईन ने कहा कि ऐसा नहीं होगा अगर ऐसा हुआ तो आपका पैसा वापस कर दिया जायेगा, जब तक आपका टिकट नहीं हो जाता तब तक यह आपका पैसा हमारे पास अमानत के तौर पर है। अब चुनाव की तारीख घोषित होने पर उसने बसपा जिलाध्यक्ष सतीश कुमार से चरथावल विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लडने हेतू पार्टी से टिकट मांगा तो उसने कहा कि तुम्हे ओर 50 लाख रूपये की व्यवस्था करनी पड़ेगी जिसकी उसने देने की हां भर दी थी, इसी तरह बसपा के नेताओं ने टिकट के नाम पर उससे 67 लांख रुपये हड़प लिए और उसके बावजूद भी बसपा की ओर से चरथावल विधानसभा पर सलमान सईद को प्रत्याशी घोषित कर दिया गया, अब शमसुद्दीन राइन उनका फोन नहीं उठा रहा है, अब बसपा से टिकट होने के बाद अरशद राणा अपने पैसों की मांग कर बसपा नेताओं के चक्कर लगा रहा है, उचित आश्वासन न मिलने पर अरशद राणा ने बसपा नेता समसुद्दीन राइन के खिलाफ नगर कोतवाली में तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराने की मांग की है, तहरीर देने के बाद बसपा नेता थाने में कोतवाल के सामने ही फूट-फूट कर रोने लगा। इंस्पेक्टर आनंद देव मिश्रा ने बसपा नेता अरशद राणा को मामले की जांच कर कार्यवाही करने का आश्वासन दिया है। मीडिया से बातचीत के दौरान अरशद राणा ने कहा कि अगर उसे इंसाफ नहीं मिला तो वह लखनऊ स्थित बसपा कार्यालय जाकर आत्महत्या कर लूंगा।

From around the web