लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर भाकियू तोमर ने जिले में 6 जगह किया चक्का जाम

 
न

मुजफ्फरनगर। भारतीय किसान यूनियन तोमर के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी संजीव तोमर के नेतृत्व में आज लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर जिले में 6 जगह चक्का जाम किया गया। भाकियू तोमर ने जिले में लक्सर रोड, छपार हाईवे, मोरना, खतौली, शाहपुर, जानसठ में चक्का जाम किया।
खतौली में भारतीय किसान यूनियन तोमर कार्यकर्ताओं ने भैंसी कट के पास हाईवे पर सांकेतिक जाम लगाकर किसान विरोधी तीनो कृषि कानूनों को वापस लेने व लखीमपुर खीरी काण्ड के दोषी ग्रह राज्य मंत्री अजय मिश्रा को तत्काल मंत्रिमंडल से बर्खास्त किये जाने की मांग सहित 11 सूत्रीय ज्ञापन सीओ राकेश कुमार को सौंपा। पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार खतौली ब्लॉक अध्यक्ष विशाल अहलावत के नेतृत्व में 11 बजे ट्रैक्टर-ट्रॉलियों में भरकर भैंसी कट पहुँचे यूनियन कार्यकर्ताओं ने हाईवे जाम करके धरना शुरू कर दिया। धरने को सम्बोधित करते हुए ब्लॉक अध्यक्ष विशाल अहलावत ने केन्द्र व राज्य सरकार पर किसान विरोधी होने का आरोप लगाते हुए कहा कि काले कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर लम्बे समय से आन्दोलन कर रहे किसानों का भाजपा दमन करने पर उतर आयी है। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी द्वारा किसानों के प्रति नफरत भरा बयान देने के कुछ ही दिन बाद इसके बेटे आशीष मिश्रा ने अपनी गाड़ी के टायरों से कुचलकर किसानों की निर्मम हत्या कर दी। सत्ता के नशे में चूर भाजपा सरकार के मंत्री अन्नदाता किसानों को आतंकवादी बताकर इनका उपहास उड़ा रहे है। विशाल अहलावत ने कहा कि कृषि कानूनों की वापसी होने तक किसान संघर्ष से पीछे नही हटेंगे। हाईवे पर दो घण्टे जाम लगाने के बाद 11 सूत्रीय मांगों वाला महामहिम राष्ट्रपति के नाम का ज्ञापन सीओ राकेश कुमार को सौंपकर ब्लॉक अध्यक्ष विशाल अहलावत ने धरना समाप्ति की घोषणा कर दी। ज्ञापन में किसान विरोधी कृषि कानूनों को वापस लेने, लखीमपुर काण्ड में मारे गये किसानों को शहीद का दर्जा देकर इनकी स्मृति में स्मारक बनवाये जाने, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी को तत्काल मंत्रिमंडल से बर्खास्त किये जाने, गन्ने का भाव साढ़े चार सौ रुपये प्रति कुन्तल दिये जाने, किसानों के सभी कजऱ्े माफ कराने, किसानों को विधुत विभाग के उत्पीडन से मुक्त कराने, बिजली की दरों में कमी कराये जाने, डीज़ल, पेट्रोल व रसोई गैस के दाम कम कराये जाने, आवारा पशुओं से किसानों की फसलों की रक्षा करने की व्यवस्था कराने, गन्ने का बकाया भुगतान शीघ्र कराने व किसान वाहन ट्रैक्टर को पचास वर्षों तक चलाने की मान्यता दिलाये जाने की मांग की गयी है। धरना देने वालों में अमित अहलावत प्रधान भैंसी, कंवरपाल सिंह, कुशलपाल सिंह, अनिल सोम, जनेश्वर, सलीम नावला, गजराज सिंह फौजी, मोमीन, फसी अख्तर सहित बड़ी संख्या में यूनियन कार्यकर्ता शामिल रहे।
मोरना में भाकियू तोमर के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजीव तोमर के आह्वान पर चक्का जाम कर विभिन्न मांगों को लेकर सौंपा ज्ञापन। मोरना में चौधरी चरण सिंह चौक पर राष्ट्रीय अध्यक्ष के आह्वान पर भाकियू तोमर के कार्यकर्ताओं ने जाम लगाकर सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने सरकार से लखीमपुर खीरी में शहीद हुए किसानों को शहीद का दर्जा देना अजय मिश्रा को भाजपा सरकार से पद मुक्त करने तीनों कृषि काले कानून वापस हो गन्ने का भाव 450 प्रति क्विंटल हो किसानों का संपूर्ण कर्ज माफ बिजली की दरें कम करने नलकूप की बिजली फ्री में देने डीजल रसोई गैस के दाम कम करने और उत्तर प्रदेश में आवारा पशुओं से निजात दिलाने किसानों को गन्ने का भुगतान मय ब्याज किसानों के ट्रैक्टर की उम्र 5० वर्ष करने सहित विभिन्न मांगों को लेकर ज्ञापन कार्यवाहक थानाध्यक्ष राजकुमार राणा को सौंपा। जाम लगाने वालों में मुख्य रूप से साजिद अली, हाजी शान मोहम्मद, चौधरी उदेशपाल, मोहम्मद सिद्दीकी, विजेंद्र उपाध्याय, बॉबी शेरावत, फरहान, मास्टर इकबाल, मेहरबान अली, साबिर मोहम्मद, मूसा, दिलशाद, शमशाद आदि सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद रहे।
 

From around the web